चरण निर्देश

ETF क्या है?

ETF क्या है?
गोल्ड इटीएफ और गोल्ड बांड की जानकारी- वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के दौरान लॉकडाउन और आर्थिक मंदी के इस दौर में जमा पर ब्याज दरें तेजी से घटी हैं। पिछले महीनों में देश के कई बड़े बैंकों ने जमा पर ब्याज दरों को घटाया है। इसके साथ ही निवेश से मिलनें वाले रिटर्न में भी भारी कमी आई है। इन सभी के बीच एक ऐसा निवेश उत्पाद है, जिसनें इस बीच बेहतर रिटर्न दिया है और यह है सोना जिसे हम गोल्ड (Gold) कहते है| जिन लोगो नें सोनें में निवेश किया था, उन्हें 40 फीसद तक रिटर्न मिला है। इस समय सोनें की कीमतों में उछाल का सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। जिसके कारण इसके निवेशकों का रिटर्न भी बढ़ता जा रहा है। हालाँकि सोने में निवेश के लिए मार्केट में कई विकल्प उपलब्ध हैं, इन्ही में से एक गोल्ड इटीएफ भी है| तो आईये जानते है, गोल्ड इटीएफ (Gold ETF) क्या है, गोल्ड बॉन्ड और गोल्ड इटीएफ में क्या अंतर है?

गोल्ड बॉन्ड और गोल्ड इटीएफ में क्या अंतर है?

निफ्टी के कारोबार में रखें इन स्तरों का ध्यान - शोमेश ETF क्या है? कुमार

आम निवेशकों के लिये निफ्टी के स्तरों को समझना और उनका ध्यान रखना जरूरी है। निफ्टी के स्तरों के बारे में जानकारी दे रहे हैं बाजार विश्लेषक शोमेश कुमार और उनसे बातचीत कर रहे हैं निवेश मंथन के संपादक राजीव रंजन झा।

#nifty50charttradingview # niftycandlechartlive #nifty50companylist #niftysharepricetradingview #nifty50chartinvesting #nifty50chartgrow #shomeshkumar

आख‍िर क्‍या है भारत बांड ईटीएफ, कितना मिलता है निवेश पर रिटर्न

आख‍िर क्‍या है भारत बांड ईटीएफ, कितना मिलता है निवेश पर रिटर्न

भाजपा के बाद सबसे अधिक चंदा कांग्रेस पार्टी को मिला। (फाइल फोटो)

बांड यील्‍ड में 4.3 फीसदी की गिरावट आने की वजह से अमीर निवेशकों की ओर से टैक्‍स फ्री बांड से रुपया निकाला जा रहा है। वहीं इनमें कुछ भारत बांड ईटीएफ में निवेश कर रहे हैं। भारत बांड ईटीएफ में ट्रिपल ए रेटिंग की कंपनियों को शामिल किया गया है। 2030 और 2031 में मैच्योर करने वाले भारत बॉन्ड ईटीएफ में निवेश से टैक्स कटने के बाद 6 फीसदी रिटर्न हासिल किया जा सकता है।

वैसे भारत भारत बॉन्ड ईटीएफ में निवेश करना काफी आसान है और इसकी प्रक्रि‍या भी ETF क्या है? काफी आसान है। भारत बॉन्ड ईटीएफ को खरीद-फरोख्त एक्सचेंज में की जाती है। जो अपने फंड का निवेश सरकारी कंपन‍ियों के बांड में करता है। बॉन्ड की मैच्योरिटी अवधि फंड ETF क्या है? की मैच्योरिटी के करीब होती है।

गोल्ड ईटीएफ में निवेश कैसे करते है (How To Invest In Gold ETF)

Gold ETF Me Nivesh Kaise Kare- गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड अर्थात गोल्ड ईटीएफ में निवेशक को निवेश करनें के लिए सबसे पहले ट्रेंडिंग और डीमैट अकाउंट खुलवाना होता है। अकाउंट खुलवानें के बाद ब्रोकर के ऑनलाइन पोर्टल पर लॉगिन कर ईटीएफ विकल्प को चुनें। आप जितनी यूनिट खरीदना चाहें, उतनी यूनिट के लिए खरीद का ऑर्डर दे सकते हैं। कुछ समय पश्चात यूनिट्स आपके डिमेट अकाउंट में आ जायेंगे और आपके खाते से पैसा कट जाएगा। निवेशक एकमुश्त या एसआईपी द्वारा भी निवेश कर सकते हैं।

Gold Bond Aur Gold ETF Me Antar- निवेश के दृष्टिकोण से सोने को हमेशा से निवेश का एक अच्छा साधन माना जाता है| लेकिन अधिकांश लोग भौतिक रूप से सोना खरीदना ही पसंद करते हैं, जैसे ज्वैलरी, कॉइन्स, ETF क्या है? बिस्किट आदि| यदि हम गोल्ड में निवेश को लेकर बात करे तो गोल्ड बॉन्ड और गोल्ड इटीएफ भी माध्यम हैं| ऐसे में सोने में निवेश के लिए कौन सा जरिया फायदेमंद है, इसके लिए हम आपको गोल्ड बॉन्ड और गोल्ड इटीएफ में अंतर बता रहे है, जो इस प्रकार है-

गोल्ड बॉन्ड (Gold Bond)

1. कोई भी व्यक्ति गोल्ड बॉन्ड के रूप में 1 ग्राम से लेकर 4 किलो तक ही सोना खरीद सकते है

2. गोल्ड बॉन्ड में पांच वर्षों का लॉक-इन पीरियड है, इसके बाद ही इसे भुनाया जा सकता है

3. गोल्ड बॉन्ड खरीदने के 3 साल बाद बेचने पर इंडेक्सेशन बेनिफिट के साथ 20 फीसदी LTCG टैक्स लगता है| यदि तीन वर्ष से पहले विक्रय करते है, तो एप्लीकेबल ETF क्या है? स्लैब रेट के अनुसार टैक्स लगेगा

4. गोल्ड बॉन्ड पर कैपिटल ETF क्या है? गेन और ब्याज दोनों का लाभ लिया जा सकता है, साथ ही इस पर सॉवरेन गारंटी भी रहती है

5. गोल्ड बॉन्ड की सबसे बड़ी कमी यह है कि इसे सेकंडरी मार्केट में बेचने पर लिक्विडिटी का इश्यू आता है

गोल्ड इटीएफ (Gold ETF)

1. गोल्ड इटीएफ के रूप में कोई भी व्यक्ति न्यूनतम 1 ग्राम सोने से लेकर कितना भी निवेश कर सकता है, क्योंकि इसमें कोई अपर लिमिट नहीं है|

2. Gold ETF में कोई लॉक इन पीरियड नहीं है

3. गोल्ड इटीएफ पर भी 3 साल का होल्डिंग पीरियड पूरा करने के बाद बेचने पर इंडेक्सेशन बेनिफिट के साथ 20 फीसदी LTCG टैक्स लगता है, वहीं 3 साल से पहले बेचने ETF क्या है? पर एप्लीकेबल स्लैब रेट से टैक्स लगता है

4. Gold ETF में खरीद और बिक्री कभी भी की जा सकती है

5. गोल्ड इटीएफ की सबसे बड़ा माईनस पॉइंट यह है कि डीमैट चार्ज देना अनिवार्य है और कभी-कभी इसका वॉल्यूम बहुत लो रहता है

क्या है गोल्ड ईटीएफ (Gold ETF), इसमें निवेश करके कैसे मिलता है मुनाफा, जानें यहां

गोल्ड ईटीएफ यानि Gold Exchange Traded Fund

गोल्ड ईटीएफ (Gold ETF): सोने में निवेश के लिए मार्केट में कई विकल्प मौजूद हैं. हालांकि आप जिस भी विकल्प को निवेश के लिए चुनते हैं उसकी हर बारीकी के बारे में आपको जरूर जानना चाहिए. आज की इस रिपोर्ट में हम गोल्ड ईटीएफ के सभी पहलुओं के बारे में जानने की कोशिश करेंगे. क्या हैं वह बारीकियां आइये जान लेते हैं.

क्या है गोल्ड ईटीएफ
गोल्ड ईटीएफ यानि गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (Gold Exchange Traded Fund) के जरिए सोने में निवेश किया जाता है. मौजूदा समय में देश के सभी बड़े एक्सचेंज के ऊपर गोल्ड ईटीएफ की ट्रेडिंग हो रही है. बता दें कि मार्च 2007 से देश में गोल्ड ईटीएफ की ट्रेडिंग हो रही है. एक्सचेंज के प्लेटफॉर्म के जरिए शेयर की ही तरह से गोल्ड ईटीएफ को खरीदा जा सकता है. यहां ध्यान देने वाली बात हैं कि ETF की खरीदारी और बिकवाली डीमैट अकाउंट (Demat Account) के जरिए ही की जाती है.

क्या है गोल्ड ETF? जानें इसमें निवेश करके कैसे कर सकते हैं कमाई

सोना प्राचीन काल से निवेश का आकर्षक माध्यम रहा है. हालांकि इसकी सुरक्षा की चिंता जरूर रहती है. इस चिंता को दूर करता है गोल्ड ईटीएफ.

alt

5

alt

5

alt

5

alt

रेटिंग: 4.29
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 494
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *