विश्‍व के बाजारों में ट्रेड करें

व्यापार संकेत

व्यापार संकेत
उन्होंने कहा, "पारस्परिक रूप से लाभकारी संबंधों पर निर्णय लेना हमारे लिए एक स्वाभाविक मार्ग है। इस तरह की अनुचित व्यापार संकेत प्रतिक्रिया के संदर्भ में, हमें इस दिशा में निष्पक्ष और स्वाभाविक रूप से काम करना होगा, व्यापार और आर्थिक क्षेत्रों में काम करना होगा।’’

अंतिम फैक्टर ऊर्जा क्षेत्र की महंगाई को देख सकते हैं. देश-दुनिया में ईंधन के रेट बढ़ रहे हैं. खासकर कच्चे तेल के भाव पहले की तुलना में अभी भले कुछ कम हो, लेकिन इसकी महंगाई चरम पर देखी जा रही है. इधर घरेलू स्तर पर भी यही हाल है. सरकारी आंकड़े के मुताबिक देश में कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस के उत्पादन में अगस्त 2022 में क्रमशः 3.3 परसेंट और 0.9 परसेंट की गिरावट दर्ज की गई. एक तरफ गिरावट तो दूसरी ओर नेचुरल गैस के दामों में उछाल देखा जा रहा है. सीएनजी और पीएनजी के दाम में लगातार बढ़ोतरी जारी है.

Rainbow In Dreams: इंद्रधनुष का सपने में दिखना, नौकरी-व्यापार वालों के लिए देता है ये संकेत

By: ABP Live | Updated at : 14 Jun 2022 06:48 PM (IST)

शुभ-अशुभ दोनों होते हैं इंद्रधनुष के सपने

Rainbow In Dreams: जिंदगी में होने वाली घटना का आभास कभी कभार सपनों में भी हो जाता है. हम सभी ऐसे सपने देखते हैं जिनका मतलब तो हमें नहीं पता होता है लेकिन इनका अर्थ बेहद व्यापक होता है.अधिकतर लोग इन सपनों को सुबह होते ही भूल जाते हैं और कुछ इनके संकेत समझने में सफल रहते हैं. सपने में इंद्रधनुष तो बहुत से लोगों ने देखा होगा. लेकिन, क्या आपको पता है कि इंद्रधनुष से जुड़ा सपना देखने व्यापार संकेत का क्या मतलब होता है?

इंद्रधनुष का रंग

स्‍वप्‍नशास्‍त्र के अनुसार जब भी सपने में इंद्रधनुष दिखाई दे तो जागने के बाद यह जरूर विचार करें कि कौन सा रंग आपको ज्‍यादा स्‍पष्‍ट नजर आ रहा था. मान्‍यता है कि अगर नीला रंग अधिक स्‍पष्‍ट हो तो यह सच्चाई और ज्ञान का प्रतीक हो सकता है जो आपकी समृद्धि से संबंधित है. वहीं अगर सफेद रंग अधिक स्‍पष्‍ट हो तो धार्मिक कार्यों से आपको सुख-समृद्धि मिलेगी.

Recession: क्या भारत में भी आने वाली है मंदी? ये 5 फैक्टर दे रहे कई बड़े संकेत

TV9 Bharatvarsh | Edited By: Ravikant Singh

Updated on: Oct 09, 2022, 4:26 PM IST

जब पूरी दुनिया मंदी की चपेट में आने वाली हो, तो भारत उससे कैसे अछूता रह सकता है? हालांकि जानकार एक बात जरूर बताते हैं कि भारत पर वैसा असर नहीं होगा जैसा बाकी दुनिया में देखा जाएगा या देखा जा रहा है. भारत में कुछ संकेत इस बात की ओर इशारा देने लगे हैं कि भविष्य में स्थिति बिगड़ सकती है. जैसे, वस्तुओं के निर्यात में पिछले साल दर्ज हुई तेजी इस साल सितंबर में थमी है. सितंबर में वस्तुओं के निर्यात में 3.5 प्रतिशत की गिरावट आई है.

जब पूरी दुनिया मंदी की चपेट में आने वाली हो, तो भारत उससे कैसे अछूता रह सकता है? हालांकि जानकार एक बात जरूर बताते हैं कि भारत पर वैसा असर नहीं होगा जैसा बाकी दुनिया में देखा जाएगा या देखा जा रहा है. भारत में कुछ संकेत इस बात की ओर इशारा देने लगे हैं कि भविष्य में स्थिति बिगड़ सकती है. जैसे, वस्तुओं के निर्यात में पिछले साल दर्ज हुई तेजी इस साल सितंबर में थमी है. सितंबर में वस्तुओं के निर्यात में 3.5 प्रतिशत की गिरावट आई है.

डिजिटल करेंसी देश के भविष्य के व्यापार का स्वरूप बदलेगी – चेक बुक का ख़ात्मा होने के संकेत : कैट

न्यू दिल्ली। हाल ही में रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया द्वारा जारी व्यापार संकेत की गई भारत की अपनी डिजिटल करेंसी सरकार के इस मज़बूत इरादे को बेहद स्पष्ट करती है की प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार देश में डिजिटलीकरण को शहर शहर और गाँव गाँव तक पहुँचाने को ठान चुकी है और निकट भविष्य में देश भर में अधिकांश व्यापार अब व्यापार संकेत डिजिटल उपकरणों के ज़रिए ही चलेगा – यह कहते हुए कन्फ़ेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ( कैट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया की इस ओर विशेष ध्यान देते हुए कैट ने देश भर के व्यापारियों के बीच “ व्यापार डिजिटलीकरण राष्ट्रीय अभियान “ शुरू करने का निर्णय लिया है और यह अभियान आगामी 15 नवम्बर से देश के सभी राज्यों की राजधानी से शुरू होगा।

टैग: व्यापार संकेत

Download IQ Option app for IOS Download IQ Option app for Android

IQ Option is one of the world's leading online trading platforms. Seize your chance to trade a wide variety of instruments, using top-notch instruments and analysis tools
Unofficial website of the IQ Option

सामान्य जोखिम चेतावनी: कंपनी द्वारा पेश किए जाने वाले वित्तीय उत्पादों में उच्च स्तर का जोखिम होता है और इसके परिणामस्वरूप आपके सभी फंड का नुकसान हो सकता है। आपको कभी भी उस पैसे का निवेश नहीं करना चाहिए जिसे आप खोने का जोखिम नहीं उठा सकते।

रूस ने भारत, अन्य साझेदारों के साथ व्यापार में राष्ट्रीय मुद्राओं का उपयोग बढ़ाने का संकेत दिया

साथ ही, उन्होंने भारत को तेल, सैन्य साजो सामान और अन्य वस्तुओं की जरूरतों को भी पूरा करने का वादा किया।

लावरोव ने विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ व्यापक बातचीत के बाद यह टिप्पणी की। उनकी बैठक में यूक्रेन संकट के भारत-रूस संबंधों पर पड़ने वाले प्रभाव और दोनों देशों के बीच व्यापार, निवेश और रक्षा सहित विविध क्षेत्रों में सहयोग जारी रखने के तरीके पर भी बातचीत हुई।

अमेरिका के उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार दलीप सिंह ने बुधवार को कहा था कि वाशिंगटन रूस से भारत के ऊर्जा और अन्य वस्तुओं के आयात में ‘‘तेजी’’ नहीं देखना चाहेगा।

रूस के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों को "विफल करने" के प्रयासों के व्यापार संकेत परिणाम भुगतने की अमेरिका द्वारा चेतावनी दिए जाने के एक दिन बाद यह वार्ता हुई है।

रेटिंग: 4.87
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 692
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *