विश्‍व के बाजारों में ट्रेड करें

शेयर बाजार में पैसे कैसे लगाएं

शेयर बाजार में पैसे कैसे लगाएं
Photo:INDIA TV

नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए

शेयर मार्केट का नाम आप बहुत ही ज्यादा सुने होंगे। लेकिन इसकी पूरी जानकारी अधिकतर लोगों के पास नहीं हैं। नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए। तो पोस्ट को ध्यान से पढ़ें ताकि इसकी बेसिक जानकारी आपको दुबारा न पढ़ना पड़े।

आज हर कोई चाहता है कि हमारा पैसा जल्दी से जल्दी डबल हो जाए। चाहे वो किसी बिज़नेस में इन्वेस्ट करें या और कोई दूसरा रास्ता की तलाश में रहता है। लेकिन वहीं शेयर बाजार में पैसा नहीं लगाना चाहते, क्योंकि उन्हें डर होता है कहीं पैसा डूब न जाए। शेयर बाजार की सही जानकारी जब तक न हो पैसा नहीं लगाना चाहिए। यह बहुत ही ज्यादा रिस्की होता है।

ये सच बात है कि लोग इस बाजार से लाखो रुपया कमा रहे हैं,लेकिन उसके लिए आपको पहले इसके बारे में बहुत ही बढ़िया ढग से जानकारी हासिल करना शेयर बाजार में पैसे कैसे लगाएं होगा। तभी आप यहाँ सफल हो सकते हैं। तो यहाँ से शुरू कीजिए पूरी डिटेल्स कि नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए। इससे पहले अगर ये जानना चाहेंगे – शेयर क्या है | शेयर कितने प्रकार के होते है | शेयर कि सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में (What Is Share In Hindi) 2022

शेयर बाजार क्या है | What is share market ?

शेयर मार्केट एक प्रकार का बिज़नेस है, जिसमे आप किसी भी कंपनी के शेयर खरीदकर उस कंपनी के शेयर होल्डर (हिस्सेदार) बन सकते हैं। आप अपने शेयर को बेच कर पैसा कमा सकते हैं। इसकी खरीद और बिक्री जहाँ होती है उसे स्टॉक एक्सचेंज कहते हैं।

सभी लेन-देन स्टॉक एक्सचेंज के नेटवर्क से जुड़े कंप्यूटरों के जरिये होता है। आज सब कुछ ऑनलाइन इंटरनेट पर उपलब्ध है। लेकिन एक समय था इसकी बोली भी मौखिक होती थी। पहले के अपेक्षा अब बहुत आसान हो गया है इस बाजार को समझना।

अगर कंपनी प्रॉफिट में जा रही तब आप अपने शेयर को बेचते हैं, तो आपको फायदा होता है। जो इस क्षेत्र में सुधबुध से काम लेता है वो ही सफल होता है। अन्य लोकल बाज़ार की तरह शेयर बाज़ार में भी खरीदने और बेचने वाले एक-दूसरे से मोल-भाव कर के सौदे पक्के करते हैं। इन शेयर के दाम बढ़ते घटते रहते हैं !

शेयर मार्केट में पैसा कैसे लगाएं

अधिकांश लोग शेयर बाजार में दूसरे के हिसाब से निवेश करते हैं। जिस कारण नुकसान होने की संभावना बढ़ जाती है या अधिक मुनाफ़ा नहीं होता है। अगर आप भी शेयर बाजार में निवेश कर पैसा कमाना चाहते हैं, तो सबसे पहले आप इस बाजार को जानिए फिर निवेश कीजिए।

आप किसी कंपनी का शेयर खरीदना चाहते हैं, तो आप सबसे पहले उस कंपनी के बारे में खुद से जाँच -पड़ताल कर लें। कंपनी का ग्रोथ क्या है, किस इंडस्ट्री से कंपनी है, उस इंडस्ट्री की मौजूदा हालत क्या है और भविष्य में वह इंडस्ट्री कितना ग्रोथ कर सकती है। दूसरे के बातों में आ कर कभी निवेश ना करें। पहले जानने की कोसिस करें नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए

अगर आप शेयर मार्केट में पैसा लगाना चाहते हैं तो आपको एक डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ती है, और यह दोनों ही अकाउंट को खुलवाने के लिए आपको किसी एक स्टॉक ब्रोकर से संपर्क करना होगा।

Stock Broker

स्टॉक ब्रोकर इस बाजार का एक महत्वपूर्ण कड़ी है, जो आपको स्टॉक एक्सचेंज से जोड़ता है, इनके बिना ना ही आप कोई शेयर खरीद सकते ना ही बेच सकते हैं। किसी भी निवेशक के द्वारा buy या sell के आर्डर को स्टॉक एक्सचेंज तक पहुंचाने का काम भी स्टॉक ब्रोकर का ही होता है।

जब आप किसी कंपनी का शेयर खरीदते हैं। आपको कंपनी से कोई मतलब नहीं होता, जब तक कंपनी का जितना शेयर आपके पास है। वो आपके डीमैट अकाउंट में शो होगा। जब उसका रेट बढे, आपको लगे की बेच देना चाहिए। तब आप स्टॉक ब्रोकर से संपर्क कर के या ऑनलाइन आर्डर लगा सकते हैं। इन ब्रोकर द्वारा एक्सचेंज में आर्डर लगायी जाएगी की आप फलाने कंपनी की शेयर बेचना चाहते हैं। जिस तरह आप बेचने का आर्डर लगाते हैं, उसीतरह वहां बहुत सारे लोगो की शेयर खरीदने की आर्डर लगती है। ( नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए )

Stock Exchange

भारत में दो Stock Exchange कार्यरत हैं, जहाँ से आप शेयर खरीद सकते हैं –

    – National Stock Exchange – Bombay Stock Exchange

कोई भी लिस्टेड कंपनी के शेयर्स Stock Exchange के माध्यम से ख़रीदे और बेचे जाते हैं। जो कंपनी Stock Exchange पर अपने शेयर्स ट्रेड करने के लिए लिस्टेड हो। ये ख़रीद और बिक्री किसी स्टॉक ब्रोकर के माध्यम से की जाती हैं। ये एक्सचेन्ज स्टॉक ब्रॉकर तक सारी नयी अपडेट्स पहुँचाती है और स्टॉक ब्रोकर यूजर तक।

ऐसा नहीं है कि मात्र शेयर ही स्टॉक मार्केट में ट्रेड किए जाते हैं। इसके अलावा बांड्स, म्यूच्यूअल फंड्स, डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट भी Share Market में ट्रेड किये जाते हैं।

स्टॉक ब्रोकर कितने प्रकार के होते हैं?

भारत में स्टॉक ब्रोकर के द्वारा दी जाने वाली सर्विस के आधार पर मुख्य दो प्रकार के स्टॉक ब्रोकर होते हैं।

1. फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर (Full-Service Broker) :

फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर की फीस काफी ज्यादा होती है। इसका मुख्य कारण यह है कि फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर अपने क्लाइंट को काफी सारी सर्विस प्रदान करते हैं। जैसे स्टॉक एडवाइजरी (अर्थात कौन सा शेयर कब खरीदें कब बेचें), स्टॉक खरीदने की मार्जिन मनी की सुविधा, मोबाइल फोन पर ट्रेड की सुविधा,IPO मैं निवेश करने की सुविधा इसके अलावा फुल टाइम स्टॉक ब्रोकर की कस्टमर सर्विस काफी अच्छा माना जाता है। इनकी सब ब्रोकर या ब्रांच कई शेयर बाजार में पैसे कैसे लगाएं शहरों में होते हैं।फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर में सबसे ज्यादा पॉपुलर कुछ ब्रोकर हैं- ICICI DIRECT,SHERKHAN,HFL,HDFC SECURITIES LTD इत्यादि नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए

नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए

शेयर मार्केट का नाम आप बहुत ही ज्यादा सुने होंगे। लेकिन इसकी पूरी जानकारी अधिकतर लोगों के पास नहीं हैं। नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए। तो पोस्ट को ध्यान से पढ़ें ताकि इसकी बेसिक जानकारी आपको दुबारा न पढ़ना पड़े।

आज हर कोई चाहता है कि हमारा पैसा जल्दी से जल्दी डबल हो जाए। चाहे वो किसी बिज़नेस में इन्वेस्ट करें या और कोई दूसरा रास्ता की तलाश में रहता है। लेकिन वहीं शेयर बाजार में पैसा नहीं लगाना चाहते, क्योंकि उन्हें डर होता है कहीं पैसा डूब न जाए। शेयर बाजार की सही जानकारी जब तक न हो पैसा नहीं लगाना चाहिए। यह बहुत ही ज्यादा रिस्की होता है।

ये सच बात है कि लोग इस बाजार से लाखो रुपया कमा रहे हैं,लेकिन उसके लिए आपको पहले इसके बारे में बहुत ही बढ़िया ढग से जानकारी हासिल करना होगा। तभी आप यहाँ सफल हो सकते हैं। तो यहाँ से शुरू कीजिए पूरी डिटेल्स कि नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए। इससे पहले अगर ये जानना चाहेंगे – शेयर क्या है | शेयर कितने प्रकार के होते है | शेयर कि सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में (What Is Share In Hindi) 2022

शेयर बाजार क्या है | What is share market ?

शेयर मार्केट एक प्रकार का बिज़नेस है, जिसमे आप किसी भी कंपनी के शेयर खरीदकर उस कंपनी के शेयर होल्डर (हिस्सेदार) बन सकते हैं। आप अपने शेयर को बेच कर पैसा कमा सकते हैं। इसकी खरीद और बिक्री जहाँ होती है उसे स्टॉक एक्सचेंज कहते हैं।

सभी लेन-देन स्टॉक एक्सचेंज के नेटवर्क से जुड़े कंप्यूटरों के जरिये होता है। आज सब कुछ ऑनलाइन शेयर बाजार में पैसे कैसे लगाएं इंटरनेट पर उपलब्ध है। लेकिन एक समय था इसकी बोली भी मौखिक होती थी। पहले के अपेक्षा अब बहुत आसान हो गया है इस बाजार को समझना।

अगर कंपनी प्रॉफिट में जा रही तब आप अपने शेयर को बेचते हैं, तो आपको फायदा होता है। जो इस क्षेत्र में सुधबुध से काम लेता है वो ही सफल होता है। अन्य लोकल बाज़ार की तरह शेयर बाज़ार में भी खरीदने और बेचने वाले एक-दूसरे से मोल-भाव कर के सौदे पक्के करते हैं। इन शेयर के दाम बढ़ते घटते रहते हैं !

शेयर मार्केट में पैसा कैसे लगाएं

अधिकांश लोग शेयर बाजार में दूसरे के हिसाब से निवेश करते हैं। जिस कारण नुकसान होने की संभावना बढ़ जाती है या अधिक मुनाफ़ा नहीं होता है। अगर आप भी शेयर बाजार में निवेश कर पैसा कमाना चाहते हैं, तो सबसे पहले आप इस बाजार को जानिए फिर निवेश कीजिए।

आप किसी कंपनी का शेयर खरीदना चाहते हैं, तो आप सबसे पहले उस कंपनी के बारे में खुद से जाँच -पड़ताल कर लें। कंपनी का ग्रोथ क्या है, किस इंडस्ट्री से कंपनी है, उस इंडस्ट्री की मौजूदा हालत क्या है और भविष्य में वह इंडस्ट्री कितना ग्रोथ कर सकती है। दूसरे के बातों में आ कर कभी निवेश ना करें। पहले जानने की कोसिस करें नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए

अगर आप शेयर मार्केट में पैसा लगाना चाहते हैं तो आपको एक डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ती है, और यह दोनों ही अकाउंट को खुलवाने के लिए आपको किसी एक स्टॉक ब्रोकर से संपर्क करना होगा।

Stock Broker

स्टॉक ब्रोकर इस बाजार का एक महत्वपूर्ण कड़ी है, जो आपको स्टॉक एक्सचेंज से जोड़ता है, इनके बिना ना ही आप कोई शेयर खरीद सकते ना ही बेच सकते हैं। किसी भी निवेशक के द्वारा buy या sell के आर्डर को स्टॉक एक्सचेंज तक पहुंचाने का काम भी स्टॉक ब्रोकर का ही होता है।

जब आप किसी कंपनी का शेयर खरीदते हैं। आपको कंपनी से कोई मतलब नहीं होता, जब तक कंपनी का जितना शेयर आपके पास है। वो आपके डीमैट अकाउंट में शो होगा। जब उसका रेट बढे, आपको लगे की बेच देना चाहिए। तब आप स्टॉक ब्रोकर से संपर्क कर के या ऑनलाइन आर्डर लगा सकते हैं। इन ब्रोकर द्वारा एक्सचेंज में आर्डर लगायी जाएगी की आप फलाने कंपनी की शेयर बेचना चाहते हैं। जिस तरह आप बेचने का आर्डर लगाते हैं, उसीतरह वहां बहुत सारे लोगो की शेयर खरीदने की आर्डर लगती है। ( नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए )

Stock Exchange

भारत में दो Stock Exchange कार्यरत हैं, जहाँ से आप शेयर खरीद सकते हैं –

    – National Stock Exchange – Bombay Stock Exchange

कोई भी लिस्टेड कंपनी के शेयर्स Stock Exchange के माध्यम से ख़रीदे और बेचे जाते हैं। जो कंपनी Stock Exchange पर अपने शेयर्स ट्रेड करने के लिए लिस्टेड हो। ये ख़रीद और बिक्री किसी स्टॉक ब्रोकर के माध्यम से की जाती हैं। ये एक्सचेन्ज स्टॉक ब्रॉकर तक सारी नयी अपडेट्स पहुँचाती है और स्टॉक ब्रोकर यूजर तक।

ऐसा नहीं है कि मात्र शेयर ही स्टॉक मार्केट में ट्रेड किए जाते हैं। इसके अलावा बांड्स, म्यूच्यूअल फंड्स, डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट भी Share Market में ट्रेड किये जाते हैं।

स्टॉक ब्रोकर कितने प्रकार के होते हैं?

भारत में स्टॉक ब्रोकर के द्वारा दी जाने वाली सर्विस के आधार पर मुख्य दो प्रकार के स्टॉक ब्रोकर होते हैं।

1. फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर (Full-Service Broker) :

फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर की फीस काफी ज्यादा होती है। इसका मुख्य कारण यह है शेयर बाजार में पैसे कैसे लगाएं कि फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर अपने क्लाइंट को काफी सारी सर्विस प्रदान करते हैं। जैसे स्टॉक एडवाइजरी (अर्थात कौन सा शेयर कब खरीदें कब बेचें), स्टॉक खरीदने की मार्जिन मनी की सुविधा, मोबाइल फोन पर ट्रेड की सुविधा,IPO मैं निवेश करने की सुविधा इसके अलावा फुल टाइम स्टॉक ब्रोकर की कस्टमर सर्विस काफी अच्छा माना जाता है। इनकी सब ब्रोकर या ब्रांच कई शहरों में होते हैं।फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर में सबसे ज्यादा पॉपुलर कुछ ब्रोकर हैं- ICICI DIRECT,SHERKHAN,HFL,HDFC SECURITIES LTD इत्यादि नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए

सलाह: इन 11 पैरामीटर पर करें शेयरों का चुनाव, मिलेगा 100% से 500% तक का तगड़ा रिटर्न

किसी भी शेयर में पैसा लगाने से पहले वह किस सेक्टर की कंपनी के शेयर है और उसका कारोबार क्या है यह पता करें। इसके बाद उस कंपनी की बैलेंस सीट, टर्नओवर, बिजनेस मॉडल और कंपनी का भविष्य क्या है आदि की जानकारी जुटाएं।

Edited by: Alok Kumar @alocksone
Updated on: January 17, 2022 13:17 IST

शेयरों का चुनाव- India TV Hindi

Photo:INDIA TV

Highlights

  • कंपनी की कुल शुद्ध लाभ और उसके शेयरों की संख्या से विभाजित करके ईपीएस हासिल किया जा सकता है
  • आरओई रेश्यो आपको बताता हैं की कंपनी अपने इक्विटी पर कितना पैसा या रिटर्न बना रही है
  • किसी शेयर का चुनाव करते समय उस कंपनी के पिछले 5 सालों के डिविडेंड भुगतान का रिकॉर्ड जरूर देखें

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बीच शेयर बाजार ने बीते दो साल में निवेशकों को शानदार रिटर्न दिया है। इसके चलते डीमैट खातों की संख्या दो करोड़ से बढ़कर 7.5 करोड़ से अधिक हो गई है। ऐसे में अगर आप भी शेयर बाजार में निवेश करते हैं और सही स्टॉक का चुनाव नहीं करने के कारण नुकसान में है तो हम आपको सही शेयर के चुनाव के लिए 11 टिप्स दे रहे हैं। इनको फॉलो कर आप न सिर्फ अपना जोखिम कम कर पाएंगे बल्कि 100% से 500% तक का तगड़ा रिटर्न वाले शेयर का चुनाव भी आसानी से कर पाएंगे।

1. निवेश से पहले EPS के गणित को समझें

EPS का मतलब होता है कि कंपनी के नेट प्रॉफिट में से कंपनी के प्रत्येक शेयर का हिस्सा। EPS का सीधा संबंध कंपनी के लाभ से होता है। अगर EPS अच्छा है तो इसका मतलब है कि कंपनी अच्छा मुनाफा कमा रही है। आप EPS को वार्षिक या मासिक आधार पर जरूर देंखे। इसका कलकुलेशन बहुत ही आसान है। कंपनी की कुल शुद्ध लाभ और उसके शेयरों की संख्या से विभाजित करके ईपीएस हासिल किया जा सकता है।

2. P/E Ratio देखना कभी भी न भूलें

P/E यानी Price to Earning Ratio। इस रेश्यो को कंपनी के 1 शेयर की मार्केट कीमत में EPS का भाग देकर निकाला जाता है। अगर किसी कंपनी का EPS 10 रुपयेे प्रति शेयर हैं। अगर कंपनी के शेयर का भाव 200 रुपये है तो कंपनी का P/E Ratio 20 होगा। इसका मतलब हुआ की आपको एक वर्ष में 10 रुपये कमाने के लिए 20 गुना पैसे देने होंगे। अतः आपको एक शेयर के लिए 200 रुपये देने होंगे।

3. RoE और RoCE को समझना बहुत जरूरी

दोनों रेश्यो किसी भी कंपनी के शेयर का चुनाव करते समय सबसे महत्वपूर्ण माने जाते हैं। यह रेश्यो आपको बताते हैं की लगाई हुई इक्विटी या कैपिटल पर कितना रिटर्न प्राप्त हो रहा हैं। आरओई रेश्यो आपको बताता हैं की कंपनी अपने इक्विटी पर कितना पैसा या रिटर्न बना रही है। आसान भाषा में समझे तो कंपनी के लगाए पैसे पर कितना पैसा बन रहा हैं।

4. तुक्का न लगाएं, ट्रेडिंग कोई जुआ नहीं

पहली बार बाजार में पैसा लगाने वाले या नए निवेशक शेयर को तुक्का का खेल समझते हैं, जबकि ठीक उलट शेयर में निवेश एक रणनीति की मांग करता है। आप किस शेयर बाजार में पैसे कैसे लगाएं कंपनी का शेयर खरीद रहे हैं, उसकी मार्केट में स्थिति कैसी है, पिछले कुछ समय से उसकी शेयर बाजार में क्या स्थिति रही है आदि की जानकारियां एक निवेशक को होनी चाहिए। सिर्फ कम कीमत देखकर जुए के खेल की तरह शेयर खरीदना और उससे लाभ की उम्मीद लगाना आपको भारी नुकसान करा सकता है।

5. कंपनी के ऊपर कर्ज का आकलन

शेयर मार्केट में शेयर चुनते समय कंपनी के ऊपर कितना कर्ज यह जरूर देखना चाहिए। अगर किसी कंपनी के ऊपर ज्यादा कर्ज हैं तो उसे बहुत ज्यादा ब्याज होगा। इसलिए आप जिस शेयर में इन्वेस्टमेंट कर रहे हो उस कंपनी के ऊपर कम से कम कर्ज होना चाहिए। एक कर्ज मुक्त कंपनी को आप ज्यादा तवज्जो देना चाहिए। एक निवेशक के तौर पर आप कंपनी का Debt-Equity Ratio देख सकते हैं। Debt-Equity Ratio अगर 1 से कम हो तो अच्छा माना जाता है। यह रेश्यो अगर जीरो हो तो यह एक आदर्श रेश्यो माना जाता हैं।

6. कंपनी द्वारा लाभांश भुगतान का रिकॉर्ड

जिन कंपनियों की वित्तीय हालत अच्छी होती है और लाभ कमाती हैं। वह अपने शेयर होल्डर्स को लाभांश का भुगतान करती है। शेयर की प्राइस में इजाफे के साथ-साथ नियमित आय के रूप में डिविडेंड को भी महत्व देना चाहिए। किसी शेयर का चुनाव करते समय उस कंपनी के पिछले 5 सालों के डिविडेंड भुगतान का रिकॉर्ड देखें।

7. मजबूत मैनजमेंट का चयन

किसी भी कंपनी का मैनेजमेंट उस कंपनी की आत्मा माना जाता है। एक अच्छा मैनेजमेंट कंपनी के भविष्य को अधिक उज्जवल बना सकता है जबकि अक्षम मैनेजमेंट अच्छी कंपनी को भी नीचे की ओर ला सकता है। इसलिए आप Share Select करते समय कंपनी के मैनेजमेंट के बारे में सही जानकारी जरूर हासिल करें।

8. शेयर बाइबैक का रिकॉर्ड चेक करें

शेयर चुनने से पहले Share Buyback के बारे में जानकारी लें। अगर प्रमोटर स्वयं की कंपनी के शेयर पब्लिक से वापस खरीद रहे हैं तो इसका मतलब है कि उन्हें कंपनी के बिजनेस मॉडल में विश्वास है और भविष्य में कंपनी के अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद हैं। इसके साथ ही कंपनी की शेयर होल्डिंग पैटर्न चेक करें। किसी कंपनी का शेयर होल्डिंग पेटर्न यह दिखाता है कि कंपनी के शेयर किन-किन व्यक्तियों के पास हैं? इसमें आपको देखना है कि शेयर का कितना हिस्सा प्रमोटर्स के पास हैं। प्रमोटर्स के पास जितना अधिक शेयर का हिस्सा होगा, उतना ही अच्छा माना जाता है।

9. कंपनी और सेक्टर जरूर देंखे

किसी भी शेयर में पैसा लगाने से पहले वह किस सेक्टर की कंपनी के शेयर है और उसका कारोबार क्या है यह पता करें। इसके बाद उस कंपनी की बैलेंस सीट, टर्नओवर, बिजनेस मॉडल और कंपनी का भविष्य क्या है आदि की जानकारी जुटाएं। इससे आपको एक आइडिया मिल जाएगा कि कौन सी कंपनी सही है या किसकी वित्तीय स्थिति कमजोर है। किसी भी सेक्टर की लीडर कंपनी पर प्रमुखता से ध्यान देना चाहिए।

10. लंबी अवधि के लक्ष्य लेकर शेयर चुनें

किसी भी शेयर में छोटी अवधि में रिटर्न की उम्मीद नहीं करें। हमेशा लंबी अवधि का लक्ष्य बनाकर निवेश करें। ऐसी कंपनी के शेयर चुनें जिसमें रिटर्न ज्यादा मिले, लेकिन रिस्क कम हो। ऐसे निवेश से बचें जिसमें या तो बहुत बढ़िया रिटर्न मिलेगा या फिर भयंकर नुकसान की संभावना है।

11. ज्यादा ट्रेडिंग वॉल्यूम वाले शेयर चुनें

हमेशा वैसे शेयर का चुनाव करें जिसमें ज्यादा ट्रेडिंग वॉल्यम हो। विश्‍लेषक अक्‍सर ज्यादा ट्रेडिंग वॉल्यूम वाले शेयरों की समीक्षा करते हैं। कम ट्रेड किए जाने वाले शेयरों में नकली तेजी लाई जा सकती है। बड़े शेयरों में इसकी गुंजाइश बहुत नहीं होती है।

Intraday Trading Tips: क्या होती है डे ट्रेडिंग? कुछ घंटों में ही मिल सकता है मोटा मुनाफा, ध्यान रखें जरूरी टिप्स

How to start Day Trading: इंटरनेट और आनलाइन ट्रेडिंग हाउसेज की पहुंच बढ़ने से अब शेयर बाजार में घर बैठे पैसे लगाना और मुनाफा कमाना आसान हो गया है.

Intraday Trading Tips: क्या होती है डे ट्रेडिंग? कुछ घंटों में ही मिल सकता है मोटा मुनाफा, ध्यान रखें जरूरी टिप्स

How to do Intraday Trading: इंटरनेट और आनलाइन ट्रेडिंग हाउसेज की पहुंच बढ़ने से अब शेयर बाजार में घर बैठे पैसे लगाना और मुनाफा कमाना आसान हो गया है.

How to start Day Trading or Intraday Trading: इंटरनेट और आनलाइन ट्रेडिंग हाउसेज की पहुंच बढ़ने से अब शेयर बाजार में घर बैठे पैसे लगाना और मुनाफा कमाना आसान हो गया है. हालांकि निवेशकों की सोच अलग अलग होती है. कुछ निवेशकों का लक्ष्य लंबी अवधि का होता है और वे अपना पैसा अलग अलग लक्ष्य पूरा करने के लिए लांग टर्म के लिए निवेश करते हैं. वहीं, कुछ निवेशक शॉर्ट टर्म गोल लेकर बाजार में पैसा लगाते हैं. इन्हीं में से कुछ इंट्राडे इन्वेस्टर्स या डे ट्रेडर्स होते हैं. इंट्राडे ट्रेड में अगर सही स्टॉक की पहचान हो जाए तो शेयर बाजार में डेली बेसिस पर पैसा लगाकर मुनाफा कमाया जा सकता है.

क्या है इंट्राडे ट्रेडिंग

असल में बाजार में एक ही ट्रेडिंग डे पर शेयर खरीदने और बेचने को इंट्रा डे ट्रेडिंग कहते हैं. इसमें सुबह पैसा लगाकर दोपहर तक अच्छी कमाई की जा सकती है. यहां शेयर खरीदा तो जाता है लेकिन उसका मकसद निवेश करना नहीं, बल्कि एक दिन में उसमें होने वाली बढ़त से मुनाफा कमाना होता है. ध्यान रहे कि इसमें जरूरी नहीं है कि आपको फायदा ही हो. डे-ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो इसके लिए पहले आपको डीमैट अकाउंट और एक ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना होता है.

चुनें सही स्टॉक: ऐसे शेयर चुनें, जिन्हें बेचना भी आसान हो. जिन शेयरों में हाई लिक्विडिटी हो और आप उन्हें आसानी से सेल कर सकें. क्यों कि अगर आपके शेयर का कोई बॉयर नहीं होगा तो आप नुकसान में पड़ जाएंगे. लेकिन लिक्विड स्टॉक में भी 2 या 3 ही स्टॉक चुनेंं.

हॉयर ट्रेडिंग वॉल्यूम: हॉयर ट्रेडिंग वॉल्यूम वाले शेयरों का ही चुनाव करें. ऐसे शेयरों में ज्यादा से ज्यादा इन्वेसटर्स का रूझान होता है.

शेयर बाजार से अपडेट रहें: अपको डे ट्रेडिंग करते समय शेयर बाजार से अपडेट रहना जरूरी है. जानना जरूरी है कि बाजार को लेकर किस तरह कीर खबरें चल रही हैं. इससे आपको सही शेयर चुनने में मदद मिलेगी और आपद जोखिम से बच जाएंंगे.

मार्केट का ट्रेंड देखें: वोलेटाइल स्टॉक से दूर रहें और अच्छे कोरेलेशन वाले शेयरों में करें खरीददारी. शेयर का चुनाव करने के पहले बाजार का ट्रेंड जरूर देख लें, मार्केट के ट्रेंड के खिलाफ न जाएं.

एक्सपर्ट से सलाह लें: निवेश के पहले एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें. उसके बाद रिसर्च के बाद जिन शेयरों को लेकर कांफिडेंट हैं, उनमें निवेश करें.

तय करें टारगेट: शेयर खरीदने के पहले यह तय करें कि किस भाव में खरीदना है और उसका लक्ष्य कितना है.
जैसे ही लक्ष्य पूरा हो, प्रॉफिट बुकिंग करें.

स्टॉप लॉस स्ट्रैटेजी: इंट्राडे ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस जरूर लगाएं. पेनी स्टॉक में निवेश करने से बचें.

(Source: इसमें अलग अलग ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट के आणार पर टिप्स दिए गए हैं.)

कितने पैसों की पड़ती है जरूरत

इंट्रा डे में आप किसी शेयर में कितनी भी रकम लगा सकते हें. शेयर बाजार में नियम है कि जिस दिन शेयर खरीदा जाता है, उस दिन पूरा पैसा नहीं देना होता है. नियम के तहत जिस दिन शेयर खरीदा जाता है, उसके 2 ट्रेडिंग दिनों के बाद पूरा भुगतान करना होता है. फिर भी आपको शेयर के भाव का शुरू में 30 फीसदी रकम निवेश करना होता है.

कैसे मिलता है फायदा

इसका उदाहरण 1 अगस्त के कारोबार में देख सकते हैं. आज एयरटेल में निवेश करने वालों की चांदी रही है और शेयर में 5 फीसदी से ज्यादा की ग्रोथ मिली है. असल में आज एजीआर इश्यू पर निवेशकों की नजर थी. सुप्रीम कोर्ट ने एजीआर बकाया चुकाने के लिए टेलिकॉम कंपनियों को 10 साल का समय दिया है. जिसके बाद एयरटेल में 5 फीसदी तेजी आ गई. ऐसे ट्रेड का ध्यान रखना डे ट्रेडर्स के लिए जरूरी है.

एक्सपर्ट का मानना है कि शेयर बाजार का अधिकांश कारोबार डे ट्रेडिंग का ही होता है, लेकिन फिर भी सावधानी के साथ कारोबार करना चाहिए. शेयर का चुनाव शेयर बाजार में पैसे कैसे लगाएं करने के पहले बाजार का ट्रेंड जरूर देखना चाहिए. मार्केट के ट्रेंड के खिलाफ न जाएं. शेयर खरीदने के पहले यह तय करें कि किस भाव में खरीदना है और उसका लक्ष्य कितना है. स्टॉप लॉस जरूर लगाएं.

(Discliamer: हम यहां इंट्राडे कारोबार के बारे में जानकारी दे रहे हैं, न कि निवेश की सलाह. शेयर बाजार के अपने जोखिम होते हैं, इसलिए निवेश के पहले एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

रेटिंग: 4.36
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 108
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *