क्रिप्टो ब्रोकर

ट्रेडिंग घंटे

ट्रेडिंग घंटे

गुजरात : इंडिया इंटरनेशनल एक्सचेंज में 22 घंटे तक होगी ट्रेडिंग, पीएम मोदी ने किया उद्घाटन

गुजरात : इंडिया इंटरनेशनल एक्सचेंज में 22 घंटे तक होगी ट्रेडिंग, पीएम मोदी ने किया उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक सिटी (गिफ्ट) के इंटरनेशनल फाइनेंशियल सर्विसेज सेंटर (आईएफएससी) में देश के पहले इंटरनेशनल एक्सचेंज 'इंडिया इंटरनेशनल एक्सचेंज' (आईएनएक्स) का उद्घाटन किया.

इंडिया आईएनएक्स, बीएसई (बंबई स्टॉक एक्सचेंज) लिमिटेड के पूर्ण स्वामित्व वाली आनुषंगी कंपनी है। यह विश्व के सबसे आधुनिक प्रौद्योगिकी प्लेटफॉर्म में से एक है और इसका टर्न अराउंड टाइम 4 माइक्रोसेकंड है. यहां 22 घंटे तक ट्रेडिंग होगी, जिससे अंतरराष्ट्रीय निवेशक एवं प्रवासी भारतीय विश्व में कहीं से भी भारत में ट्रेड कर सकें.

इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि इंडिया इंटरनेशनल एक्सचेंज का उद्घाटन भारत के वित्तीय क्षेत्र के लिए बेहद महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा कि प्रतिभा और प्रौद्योगिकी के संयोजन के साथ भारतीय कंपनियां विश्व के तमाम वित्तीय केंद्रों से प्रतियोगिता कर सकती हैं.

इस एक्सचेंज के जरिए भारतीय एक्सचेंज के साथ-साथ दुबई, लंदन, सिंगापुर जैसे विश्व के अन्य एक्सचेंज को कम दर पर विविध उत्पादों और प्रौद्योगिकी सेवाओं को उपलब्ध कराया जाएगा.

इस अवसर पर बीएसई के चेयरमैन सुधाकर राव ने कहा, 'वित्तीय सेवाओं की दुनिया में बीएसई प्रणेता रही है और इंडिया इंटरनेशनल एक्सचेंज की शुरुआत इसकी नवीनतम उपलब्धि है. हमें पूरा विश्वास है कि यह एक्सचेंज देश के बुनियादी ढांचे और विकास संबंधी जरूरतों के लिए पूंजी जुटाने में महत्वपूर्ण योगदान देगा. यह समानांतर रूप से विश्व में टेक्नोलॉजी के स्तर पर बेहद एडवांस्ड प्लेटफॉर्म पर कम लेनदेन शुल्क के साथ सीमा पार निवेश के अवसर उपलब्ध कराएगा.'

आईएफएससी-गिफ्ट ट्रेडिंग घंटे सिटी में स्थित यह एक्सचेंज टैक्स ढांचे और नियामकीय ढांचे के लिहाज से प्रतिस्पर्धात्मक तौर पर फायदेमंद है. इसमें प्रतिभूति लेनदेन कर, कमोडिटी (जिंस) लेनदेन कर, लाभांश वितरण कर और लंबी अवधि में पूंजीगत लाभ पर कर छूट के साथ ही आयकर से छूट जैसे लाभ शामिल हैं.

करीब 250 ट्रेडिंग सदस्य, जिनमें कमोडिटी और विदेशी ब्रोकर शामिल हैं, ने इंडिया आईएनएक्स के संग काम करने में दिलचस्पी दिखाई है. एक्सचेंज को उम्मीद है कि सभी ट्रेडिंग घंटे ट्रेडिंग घंटे प्रकार के प्रतिभागी एक ऐसी पारस्थितिकी विकसित करेंगे, जो इसे वैश्विक स्तर पर अन्य वित्तीय केंद्रों के मुकाबले ज्यादा प्रतिस्पर्धी बनाएगी.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Diwali Muhurat Trading: जानिए क्या होती है मुहूर्त ट्रेडिंग, क्यों इस दिन हर कोई चाहता है शेयर खरीदना!

Diwali Muhurat Trading: जानिए क्या होती है मुहूर्त ट्रेडिंग, क्यों इस दिन हर कोई चाहता है शेयर खरीदना!

दिवाली के दिन शाम को शेयर बाजार में मुहूर्त ट्रेडिंग होती है. तमाम निवेशक शगुन के लिए कुछ शेयर खरीदते हैं. अधिकतर निवेशक इस दिन शेयरों को खरीदकर उसे लंबे समय तक अपने पास रखते हैं.

शेयर बाजार (Share Market) के लिए ये हफ्ता बहुत ही शानदार साबित हुआ है. इस हफ्ते सेंसेक्स में 1387 अंकों की तेजी देखने को मिली है. हफ्ते के आखिरी दिन में सेंसेक्स 104 अंक चढ़ा है. त्योहारों के चलते इस महीने में शेयर बाजार कई दिन बंद रहेगा. इसी बीच कई लोगों के मन में ये सवाल भी है कि क्या दिवाली (Diwali) को शेयर बाजार बंद रहेगा (Share Market on Diwali) या फिर उस दिन मार्केट खुलेगा? आपको बता दें कि 24 अक्टूबर को दिवाली पर छुट्टी की वजह से सामान्य घंटों में तो शेयर बाजार बंद रहेगा, लेकिन शाम तो 1 घंटे की मुहूर्त ट्रेडिंग के लिए खुलेगा. आइए समझते हैं क्या है मुहूर्त ट्रेडिंग (Diwali Muhurat Trading) और क्यों की जाती है.

क्या है मुहूर्त ट्रेडिंग?

जैसा कि नाम से ही काफी हद तक समझ आ रहा है कि यह किसी तरह का मुहूर्त है. दरअसल, दिवाली पर लोग खरीदारी को शुभ मानते हैं. वहीं शेयर बाजार का तो पूरा कारोबार ही खरीद-फरोख्त का है. ऐसे में दिवाली पर लोग मुहूर्त ट्रेडिंग में सिर्फ शगुन के लिए खरीदारी करते हैं. वैसे तो बहुत से लोग इस दिन मुनाफा भी काटने की कोशिश करते हैं, लेकिन अधिकतर लोग मुहूर्त ट्रेडिंग को सिर्फ शगुन के लिए खरीददारी की तरह देखते हैं. शेयर बाजार में रेगुलर पैसे लगाने वाले निवेशक मुहूर्त ट्रेडिंग पर शगुन के तौर पर शेयर खरीद कर उन्हें अपने पोर्टफोलियो में रखते हैं. माना जाता है कि इस दौरान शेयर खरीदने वालों को साल भर लाभ मिलता है. मुहूर्त ट्रेडिंग दिवाली की शाम 6.15 से 7.15 तक यानी 1 घंटे होती है.

5 दशकों से चली आ रही है ये परंपरा

शेयर बाजार में दिवाली के दिन शाम को एक घंटे मुहूर्त ट्रेडिंग करने की परंपरा एक दो साल नहीं बल्कि करीब 5 दशक पुरानी है. इसकी शुरुआत बीएसई में 1957 में हुई थी, जबकि एनएसई में इसे 1992 से शुरू किया गया. मुहूर्त ट्रेडिंग को पूरी तरह से परंपरा से जोड़कर देखा जाता है.

कई निवेशक अगली पीढ़ी तक ले जाते हैं ये शेयर

बहुत सारे ऐसे निवेशक हैं जो मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन खरीदे गए शेयरों को अच्छा शगुन मानते हैं और उन्हें कभी नहीं बेचते. वह मानते हैं कि ये शेयर उनके पोर्टफोलियो में बरक्कत के लिए बहुत ही शुभ हैं. ऐसे में वह निवेशक तो मुहूर्त ट्रेडिंग के दिन खरीदे हुए शेयरों को कभी नहीं बेचते हैं. यहां तक कि कुछ तो उन शेयरों को अगली पीढ़ी तक ले जाते हैं.

पिछले साल मुहूर्त ट्रेडिंग में बाजार हुआ था गुलजार

पिछले साल दिवाली 4 नवंबर 2021 को थी. उस दिन भी शाम को मुहूर्त ट्रेडिंग के लिए शेयर बाजार खुला था. पिछली बार मुहूर्त ट्रेडिंग पर शेयर बाजार गुलजार हो गया था. महज एक घंटे के सेशन में ही बीएसई का सेंसेक्स 60 हजार से भी ट्रेडिंग घंटे ऊपर चाल गया था. मुहूर्त ट्रेडिंग में बाजार में तगड़ा उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है. पिछली बार बाजार खुला तो 436 अंकों की तेजी के साथ, लेकिन बाद में करेक्ट हुआ और अंत में 295 अंकों की तेजी के साथ 60,067 अंकों के स्तर पर बंद हुआ.

क्या होते हैं भंगार शेयर? सिर्फ सस्ती कीमत देखकर ना खरीदें, जानिए Penny Stocks का गणित

Diwali Muhurat Trading 2022 date, timing: कुछ ही देर में खुलने वाला है शेयर बाजार, ट्रेडिंग घंटे खरीदारी के लिए रहें तैयार, पूरे साल होगी बंपर कमाई!

Diwali Muhurat Trading 2022 date, timing: संवत 2078 के दौरान भारतीय शेयर बाजारों ने वैश्विक बाजारों की तुलना में कहीं अच्छा प्रदर्शन किया था। संवत 2079 (Samvat 2079) में भी इसके जारी रहने की उम्मीद है।

Updated Oct 24, 2022 | 05:27 PM IST

Diwali Muhurat Trading 2022 date, timing: कुछ ही देर में खुलने वाला है शेयर बाजार, खरीदारी के लिए रहें तैयार, पूरे साल होगी बंपर कमाई!

share market

Diwali Muhurat Trading: इस 1 घंटे में खरीदा कोई भी शेयर, तो पूरे साल होगी धमाकेदार कमाई!

  • मुहूर्त ट्रेडिंग शेयरों में निवेश शुरू का अच्छा समय हो सकता है।
  • बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में यह परंपरा साल 1957 में शुरू हुई थी।
  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में इसकी शुरुआत 1992 में हुई थी।

Diwali Muhurat Trading 2022 date, timing: पूरे देश में दिवाली (Diwali) की धूम शुरू हो गई है। 24 अक्टूबर को देशभर में रोशनी का त्योहार मनाया जा रहा है। ना सिर्फ मां लक्ष्मी और भगवान राम-सीता के भक्त, बल्कि शेयर बाजार (Share Market) में निवेश करने वालों को भी दिवाली के शुभ अवसर का इंतजार रहता है। दरअसल देश में हर साल दिवाली पर मुहूर्त ट्रेडिंग (Muhurat Trading) का आयोजन होता है। वैसे तो दिवाली के दिन शेयर बाजार बंद होता है, लेकिन शाम को एक घंटे के लिए मुहूर्त ट्रेडिंग होती है। यानी आप एक घंटे के लिए शेयर खरीद और बेच सकते हैं।

हिंदू संवत वर्ष 2079 (Samvat 2079) की शुरुआत के पहले दिन दीपावली पर सोमवार को प्रमुख शेयर बाजार बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में एक घंटे का विशेष कारोबारी सत्र मुहूर्त ट्रेडिंग होगा।

Dhanteras 2022 Puja Samagri

Dhanteras 2022 Puja Samagri: धनतेरस पर क्या खरीदना शुभ माना जाता है? कितना आएगा खर्च?

Dhanteras 2022 1

Dhanteras 2022: सिर्फ 1 रुपये में मिल रहा है सोना, फटाफट जानें कहां से खरीद सकते हैं आप

WazirX இல் TFUEL/INR வர்த்தகம் (TFUEL/INR trading on WazirX)

TFUEL, Theta ब्लॉकचेन पर दूसरा टोकन है जो विकेंद्रीकृत वीडियो और डेटा वितरण में उपयोगिता टोकन के रूप में कार्य करता है, यह गैस टोकन के रूप में भी कार्य करता है। इसका मतलब यह है कि इसका उपयोग Theta ब्लॉकचेन पर सभी कार्यों को शक्ति प्रदान करने के लिए किया जाता है, जैसे कि वीडियो स्ट्रीम शेयर करने के लिए रिलेयर्स को भुगतान, स्मार्ट अनुबंधों को तैनात और बातचीत करने के लिए और NTF और DeFi एप्लिकेशंस के लेनदेन से जुड़ी फीस के रूप में।

  • ट्रेडिंग मूल्य (पिछले 24 घंटे में): $0.2088 USD
  • ग्लोबल मार्केट कैप (पिछले 24 घंटे में): $1,106,832,242 USD
  • ग्लोबल ट्रेडिंग वॉल्युम (पिछले 24 घंटे में): $45,941,446 USD
  • संचारी आपूर्ति: 5.30B TFUEL
  • कुल आपूर्ति: 5,301,214,400 TFUEL

जोखिम चेतावनी: क्रिप्टो ट्रेडिंग उच्च बाजार जोखिम के अधीन है। कृपया सुनिश्चित करें कि नए लिस्टेड टोकन की ट्रेडिंग करते समय आप पर्याप्त जोखिम का मूल्यांकन करते हैं क्योंकि वे अक्सर उच्च मूल्य अस्थिरता के अधीन होते हैं। WazirX उच्च-गुणवत्ता वाले क्वाइंस के चयन के लिए सर्वोत्तम प्रयास करेगा, लेकिन आपके ट्रेडिंग में हुए नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगा।

अस्वीकरण: क्रिप्टोकुरेंसी कानूनी निविदा नहीं है और वर्तमान में अनियमित है। कृपया सुनिश्चित करें कि आप क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार करते समय पर्याप्त जोखिम मूल्यांकन करते हैं क्योंकि वे अक्सर उच्च मूल्य अस्थिरता के अधीन होते हैं। इस खंड में दी गई जानकारी किसी निवेश सलाह या वज़ीरएक्स की आधिकारिक स्थिति का प्रतिनिधित्व नहीं करती है। वज़ीरएक्स अपने विवेकाधिकार में इस ब्लॉग पोस्ट को किसी भी समय और बिना किसी पूर्व सूचना के किसी भी कारण से संशोधित करने या बदलने का अधिकार सुरक्षित रखता है।

एक घंटे की दिवाली स्पेशल ट्रेडिंग में सोने में उतार चढ़ाव, चांदी हुई सस्ती

दीपावली के दिन भारतीय वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में दिवाली के दिन हुई थी स्पेशल ट्रेडिंग
सोना महंगा होने के बाद 50922 रुपए के साथ सपाट स्तर पर हुआ बंद, चांदी के दाम में देखने को मिली तेजी के बाद 125 रुपए की गिरावट

Published: November 15, 2020 12:41:22 pm

नई दिल्ली। दीपावली के दिन भारतीय वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में स्पेशल ट्रेडिंग देखने को मिली। जिसमें सोने और चांदी की कीमत में भारी उतार चढ़ाव देखने को मिला। घंटे भर की स्पेशल ट्रेडिंग के शुरुआती दौर में सोना और चांदी दोनों में तेजी देखने को मिली। जहां सोना 51 हजार रुपए के मनोवैज्ञानिक स्तर को पार कर गया। जबकि चांदी के दाम भी 64 हजार रुपए प्रति किलोग्राम के लेवल को पार कर गई। उसके बाद आखिरी क्षणों में दोनों की कीमतती धातुओं की कीमत में मुनाफावसूली हुई और सोना सपाट स्तर पर बंद हो गया। जबकि चांदी की कीमत में 125 रुपए की गिरावट देखने को मिली।

Gold fluctuates in diwali special trading, silver becomes cheaper

सोना में देखने को मिला भारी उतार चढ़ाव
वायदा बाजार में हुई स्पेशल ट्रेडिंग में सोना और चांदी दोनों भारी उतार चढ़ाव देखने को मिला। दीपावली के दिन करीब एक घंटे की स्पेशल ट्रेडिंग हुई। सोना तेजी के साथ 51015 रुपए प्रति दस ग्राम के साथ खुला और 51080 रुपए प्रति दस ग्राम के उच्च स्तर पर पहुंच गया। उसके बाद कीमत में गिरावट का दौर शुरू हुआ और बाजार बंद होने के तक 50922 रुपए के साथ सपाट स्तर पर बंद हुआ। वैसे सोने के दाम 50862 रुपए के साथ कारोबारी सत्र में न्यूनमू स्तर पर भी पहुंच गए थे।

चांदी भी गिरावट के साथ बंद
वहीं दूसरी ओर चांदी की कीमत में भी भारी उतार चढ़ाव देखने को मिला। स्पेशल ट्रेडिंग के शुरुआती दौर में चांदी की कीमत तेजी के साथ 63900 रुपए प्रति किलोग्राम के साथ खुली। देखते ही देखते दाम 64038 रुपए के साथ उच्च स्तर पर भी चला गया। उसके बाद चांदी की चमक फीकी दिखाई देने लगी। आंकड़ों की बात करें तो स्पेशल ट्रेडिंग की बात करें तो चांदी कारोबारी सत्र के दौरान 63560 रुपए के साथ न्यूनतम स्तर पर भी पहुंच गई। जबकि कारोबार बंद होने के बाद चांदी के दाम 125 रुपए की गिरावट के साथ 62608 रुपए प्रति किलोग्राम देखने को मिली।

रेटिंग: 4.85
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 266
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *