निवेश न्यूज़

यथा शक्ति जमा योजना

यथा शक्ति जमा योजना

यथा शक्ति जमा योजना

उत्तर प्रदेश के युवाओं को तकनीकी रूप से सशक्त बनाने के लिए, उत्तर प्रदेश सरकार ने डिजिशक्ति योजना शुरू की है, जिसके तहत उत्तर प्रदेश के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों में शैक्षणिक सत्र 2021-22 में पढ़ने वाले छात्रों और सरकार द्वारा चुने गए किसी भी अन्य हितधारक को टैबलेट और स्मार्टफोन वितरित किए जाएंगे। इसके अतिरिक्त, इस योजना के तहत लाभार्थियों को उनके सशक्तिकरण के लिए डिवाइस के वितरण के साथ-साथ शैक्षिक व करियर संबंधी जानकारी भी प्रदान की जाएगी।

स्नातक, स्नातकोत्तर, डिप्लोमा, कौशल विकास और उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा, तकनीकी शिक्षा (डिप्लोमा), आईटीआई, उत्तर प्रदेश के सरकारी या निजी विश्वविद्यालयों/कॉलेजों/संस्थानों से चिकित्सा शिक्षा के पाठ्यक्रमों के शैक्षणिक सत्र 2021-22 में अध्ययन करने वाले छात्र एवं अन्य हितधारक जो उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चुने गए हैं, इस योजना के लिए योग्य होंगे।

हाँ, आप पात्र हैं। कोई भी छात्र जो शैक्षणिक सत्र 2021-22 में उत्तर प्रदेश में पढ़ रहा है, इस योजना के लिए पात्र हैं, चाहे उनका मूल राज्य या राष्ट्रीयता कुछ भी हो। अर्थात उक्त शैक्षणिक सत्र में उत्तर प्रदेश में पढ़ने वाले विभिन्न देशों के छात्र भी इस योजना के लिए पात्र हैं।

नहीं, आप पात्र नहीं हैं। यह योजना केवल शैक्षणिक वर्ष 2021-22 में उत्तर प्रदेश में पढ़ने वाले छात्रों के लिए है।

योजना का लाभ उठाने के लिए छात्रों को किसी पोर्टल पर पंजीकरण या आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है। उन्हें उनके संबंधित कॉलेज/संस्थान/विश्वविद्यालय परिसर द्वारा एसएमएस/ईमेल/नोटिस/आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से स्थिति के बारे में सूचित किया जाएगा।

विश्वविद्यालय/बोर्ड/सोसाइटी/परिषद, कॉलेज/संस्थान, जिला प्रशासन स्तर पर नोडल अधिकारी, यूपीडेस्को और समय-समय पर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अधिकृत अन्य निकाय इस पोर्टल का उपयोग कर सकते हैं एवं उपयोगकर्ताओं को पोर्टल पर खुद को पंजीकृत कराने की आवश्यकता नहीं है। सॉफ्टवेयर के अधिकृत उपयोगकर्ताओं द्वारा लॉगिन बनाया जाएगा जिसके यथा शक्ति जमा योजना पश्चात संबंधित उपयोगकर्ताओं को उनके लॉगिन विवरण उनके पंजीकृत मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी पर भेजे जाएंगे।

हालांकि, शैक्षिक व करियर संबंधी जानकारी बिना किसी लॉगिन या पंजीकरण के पोर्टल पर उपलब्ध रहेगी।

छात्रों का डाटा जमा करने के लिए पोर्टल पर छात्रों को कोई पंजीकरण नहीं करना है। डेटा संस्थान द्वारा अपने विश्वविद्यालयों के माध्यम से प्रदान किया जाना है। इसके लिए एक तकनीकी प्रक्रिया तैयार की गयी है। सभी विश्वविद्यालयों/कॉलेजों/संस्थानों और अन्य शैक्षिक निकायों को ईमेल/अधिसूचना/नोटिस/आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से प्रक्रिया के बारे में सूचित किया जाएगा।

लाभ प्राप्त करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा ।

अभी कोई समय सारिणी तय नहीं की गयी है। एक बार वितरण निर्धारित हो जाने पर, छात्रों को उनके कॉलेज/संस्थान/विश्वविद्यालय/बोर्ड/सोसाइटी/परिषद द्वारा एसएमएस/ईमेल/अधिसूचना/नोटिस/आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से सूचित किया जाएगा।

छात्रों को सलाह है कि वे खुद को सूचित रखने के लिए डिजिशक्ति के आधिकारिक पोर्टल और अपने कॉलेज/संस्थान/विश्वविद्यालय की आधिकारिक वेबसाइट को नियमित रूप से देखते रहें। छात्र, अधिक जानकारी के लिए अपने संबंधित कॉलेज/संस्थान/विश्वविद्यालय परिसर से भी संपर्क कर सकते हैं।

हां। यदि डिजीशक्ति पोर्टल के अधिकृत उपयोगकर्ताओं को पोर्टल का उपयोग करते समय किसी तकनीकी समस्या का सामना करना पड़ता है, तो वे . नंबर पर संपर्क कर सकते हैं या अपनी समस्या को …(ईमेल आईडी). पर उठा सकते हैं | इन हेल्पलाइनों पर छात्रों या किसी भी अन्य हितधारक द्वारा योजना के बारे में किसी भी सामान्य प्रश्न के उत्तर नहीं दिए जायेंगे ।

अब तक (28 दिसंबर, यथा शक्ति जमा योजना 2021, शाम 5 बजे) विभिन्न संस्थानों/विश्वविद्यालयों द्वारा 37,08,713 छात्रों का डाटा पोर्टल पर अपलोड किया जा चुका है और हितधारकों द्वारा इस डेटा को निरंतर अपलोड भी किया जा रहा है। पहले चरण में यथा मार्च 2022 तक, सभी पाठ्यक्रमों के अंतिम वर्ष के छात्रों और 1 वर्ष अथवा उससे कम अवधि वाले पाठ्यक्रमों के छात्रों को उपकरणों का वितरण किया जाएगा। इसके बाद अन्य छात्रों को वितरण अगले चरण में पूर्ण किया जाएगा।

इस योजना के लिए वर्तमान में तीन ओईएम (सैमसंग, एसर और लावा) डिवाइसों की आपूर्ति कर रहे हैं। उनकी संबंधित विशिष्टताएं इस प्रकार हैं:

  • सैमसंग स्मार्टफोन:
    मॉडल: A03/A03s
    विशिष्टता: रैम 3 जीबी, रोम 32 जीबी, ऑक्टा कोर प्रोसेसर, 8 मेगापिक्सल बैक कैमरा, 5 मेगापिक्सल फ्रंट कैमरा, 5000 एमएएच बैटरी, 1 टीबी तक स्टोरेज बढ़ाने की क्षमता
  • लावा स्मार्टफोन:
    मॉडल: LE000Z93P (Z3)
    विशिष्टता: रैम 3 जीबी, रोम 32 जीबी, क्वाड कोर प्रोसेसर अथवा उससे अधिक, 8 मेगापिक्सल बैक कैमरा, 5 मेगापिक्सल फ्रंट कैमरा, 5000 एमएएच बैटरी, 16 जीबी या उससे अधिक स्टोरेज बढ़ाने की क्षमता
  • सैमसंग टैबलेट:
    मॉडल: A7 Lite LTE-T225
    विशिष्टता: रैम 3 जीबी, रोम 32 जीबी, ऑक्टा कोर यथा शक्ति जमा योजना प्रोसेसर, 8 मेगापिक्सल बैक कैमरा, 2 मेगापिक्सल फ्रंट कैमरा, 5100 एमएएच बैटरी
  • लावा टैबलेट:
    मॉडल: T81n
    विशिष्टता: रैम 2 जीबी, रोम 32 जीबी, क्वाड कोर प्रोसेसर, 8 मेगापिक्सल बैक कैमरा, 5 मेगापिक्सल फ्रंट कैमरा, 5100 एमएएच बैटरी
  • एसर टैबलेट:
    मॉडल: Acer One 8 T4-82L
    विशिष्टता: रैम 2 जीबी, रोम 32 जीबी, क्वाड कोर यथा शक्ति जमा योजना प्रोसेसर, 8 मेगापिक्सल बैक कैमरा, 2 मेगापिक्सल फ्रंट कैमरा, 5100 एमएएच बैटरी

हम आपकी डिवाइस से कोई व्यक्तिगत जानकारी प्राप्त नहीं करते हैं। आपकी डिवाइस के IMEI नंबर को आपके संस्थान इनरोलमेंट नंबर के साथ मैप किया गया है, जिसका उपयोग आपको DigiShakti Adhyayan App के माध्यम से शैक्षिक व करियर संबंधी जानकारी प्रदान करने के लिए किया जाएगा।

नहीं, हम आपकी ब्राउज़र हिस्ट्री को ट्रैक नहीं करते हैं। निम्नलिखित व्यक्तिगत जानकारियों को स्पष्ट रूप से ट्रैक नहीं किया जाता है:

  • कॉल व वेब ब्राउज़िंग हिस्ट्री
  • ईमेल एवं एसएमएस/टेक्स्ट मैसेज
  • संपर्क विवरण
  • कैलेंडर
  • पासवर्ड
  • तस्वीरें, साथ ही वो सामग्री भी जो फोटो ऐप एवं कैमरा रोल में मौजूद हैं
  • फाईल्स एवं फोन नंबर
  • ऐप एवं आपकी व्यक्तिगत प्रोफाइल का डेटा

डिवाइस के एंटरप्राइज़ परिनियोजन के लिए एमडीएम का प्रयोग किया गया है। यह सुनिश्चित करता है कि डिवाइस में एंटरप्राइज़ ग्रेड सुरक्षा सुविधाएँ उपलब्ध हैं एवं साथ ही यह डिवाइस को डेटा हानि, धोखाधड़ी से रोकता है और मैलवेयर को रोकता है। यदि डिवाइस चोरी हो जाती है तथा उपयोगकर्ता डिवाइस के चोरी की रिपोर्ट करता है तो एडमिन द्वारा रिमोट के माध्यम से डिवाइस को लॉक किया जा सकता है। एमडीएम, शैक्षिक सामग्री और करियर से संबंधित सामग्री को सीधे डिवाइस तक पहुंचाने में मदद करता है, जो उपयोगकर्ता को नवीनतम सरकारी नीतियों से अपडेट रहने में मदद करता है।

कृपया नीचे दिए गए अपने संबंधित ओईएम के लिंक पर क्लिक करें तथा अपलोड की गई फाइल में प्रदान की यथा शक्ति जमा योजना गई प्रक्रिया का पालन करें। इससे आप यह जांच सकते हैं कि आपका डेटा कैसे संरक्षित किया जाता है एवं कौनसी डेटा नीतियां डिवाइस में लागू होती हैं।

यथा शक्ति जमा योजना

इन नियमों में अन्यथा संदर्भ अपेक्षित न हो –

  1. ‘समिति’ से अभिप्रेत है, नवोदय विद्यालय समिति।
  2. ‘लेखा अधिकारी’ से अभिप्रेत है ऐसा अधिकारी जिसे अंशदाता का भविष्य निधि लेखा रखने का कार्य समिति द्वारा सौंपा है।
  3. ‘कर्मचारी’ से अभिप्रेत है, समिति का नियमित कर्मचारी।
  4. ‘सक्षम प्राधिकारी’ से अभिप्रेत है, इन नियमों के अंतर्गत निर्धारित प्राधिकारी।
  5. ‘निधि’ से अभिप्रेत है, नवोदय विद्यालय समिति अंशदायी भविष्य निधि.

इन नियमों में प्रयुक्त अन्य पद/परिभाषा उसी रूप में प्रयुक्त किए जाएंगे, जैसा कि अंशदायी भविष्य निधि नियम (भारत), 1962 में प्रयुक्त किए गए हैं।

3. समति आवश्यक परिवर्तनों सहित समय-समय पर यथा संशोधित अंशदायी भविष्य निधि नियम (भारत), 1962 का तब तक करेगी तब तक कि इन नियमों में अन्यथा निर्धारित नहीं किया जाता है।

4.निधि का गठन

  1. निधि रुपयों में किसी राष्ट्रीकृत बैंक में रखी जाएगी।
  2. इन नियमों के अधीन प्राप्त राशि को समिति के लेखा, नामतः ‘नवोदय विद्यालय समिति अंशदायी भविष्य निधि’ में क्रेडिट किया जाएगा।
  3. यह निधि समिति के निम्नलिखित अधिकारियों द्वारा शासित होगी और संयुक्त रूप से किसी भी दो अधिकारियों द्वारा संचालित की जाएगी।
    1. आयुक्त, नवोदय विद्यालय समिति
    2. आंतरिक वित्तीय सलाहकार और मुख्य लेखा अधिकारी
    3. उपायुक्त (वित्त)
    4. संयुक्त आयुक्त (प्रशा.)
    5. उपायुक्त (प्रशा.)

    5.निवेश

    1. वह धन जो समय-समय पर इस निधि में जमा होता है और तत्काल भुगतान करने हेतु यदि इसकी आवश्यकता नहीं है, तो ऐसे धन का निवेश मान्यता प्राप्त भविष्य निधि के संबंध में भारत सरकार द्वारा अनुमोदित यथा संशोधित अधिसूचना सं. 2(1)-पीडी/86 दिनांक 17.03.86 के अंतर्गत निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार किया जाएगा।
    2. सभी निवेश नवोदय विद्यालय समिति अंशदायी भविष्य निधि लेखा के नाम पर किए जाएंगे। ऐसे निवेश की सभी खरीद, बिक्री या परिवर्तन आयुक्त (न.वि.स.) के प्राधिकार के अनुसार प्रभावी होंगे और सुरक्षित रखने हेतु निवेश करने, इसकी बिक्री करने या इसमें परिवर्तन करने के सभी अनुबंध, हस्तांतरण कार्य या अन्य दस्तावेज आंतरिक वित्तीय सलाहकार और मुख्य लेखा अधिकारी द्वारा निष्पादित किए जाएंगे।

    6.ब्याज

    1. समिति अंशदायी भविष्य निधि में किसी अंशदाता के नाम जमा राशि पर उसके खाते में ब्याज ऐसी दर पर जमा करेगी, जिसे भारत सरकार द्वारा समय-समय पर निर्धारित किया जाएगा।
    2. यदि निवेश से अर्जित राजस्व, अंशदाताओं को देय ब्याज से कम अर्जित होता है, तो समिति के कामकाज हेतु भारत सरकार द्वारा दी गई अनुदान सहायता में से आवश्यक राशि इस निधि में जोड़ेगी। दूसरी ओर यदि अर्जित राजस्व, ब्याज देयता से अधिक है तो वह निधि राजस्व प्राप्ति का हिस्सा बन जाएगी।

    7.पात्रता शर्तें

    1. ये नियम दिनांक 01 अप्रैल, 1988 को या उसके पश्चात, परन्तु नई पेंशन योजना (एनपीएस) लागू होने की तिथि अर्थात् 01 अप्रैल, 2009 से पहले समिति की नामावली पर उपलब्ध सभी नियमित कर्मचारियों पर लागू होंगे।
    2. समिति के सभी नियमित कर्मचारियों के लिए इस निधि में भारत सरकार द्वारा समय-समय पर निर्धारित दर के अनुसार अंशदान करना अनिवार्य होगा, जिसकी कटौती मासिक वेतन से देय होगी।

    8.समिति द्वारा अंशदान

    समिति यथा शक्ति जमा योजना प्रत्येक वर्ष, 31 मार्च को अंशदायी भविष्य निधि नियम (भारत), 1962 के प्रावधनों के अंतर्गत भारत सरकार द्वारा समय-समय पर जारी अनुदेशों के अनुसार प्रत्येक सदस्य के खाते में अंशदान करेगी। अंशदान की वर्तमान दर वर्ष की 31 मार्च तक जारी परिलब्धियों का 10% है।

    9. इन नियमों में जिन मामलों का विशेष रूप यथा शक्ति जमा योजना से उल्लेख नहीं किया गया हैं, उनके संबंध में आवश्यक परिवर्तन सहित अंशदायी भविष्य निधि नियम (भारत) 1962 के प्रावधान समिति के प्रत्येक उस कर्मचारी पर लागू होंगे, जिसे नवोदय विद्यालय समिति अंशदायी भविष्य निधि नियमों का लाभार्थी स्वीकार किया गया है। ऐसे मामलों में, समिति भारत सरकार द्वारा निर्धारित प्रक्रिया का भी पालन करेगी।

    10. निधि से अग्रिम और निकासी की मंजूरी के लिए उचित सक्षम प्राधिकारी निम्नानुसार होंगे: -

    क. अग्रिम

    अग्रिम
    1 प्राचार्य प्राचार्य को छोड़कर उनके अधिनस्थ विद्यालय के सभी कर्मचारी
    2 क्षेत्रीय उपायुक्त संभाग के विद्यालयों के प्राचार्य तथा क्षेत्रीय कार्यालय में कार्यरत सभी कर्मचारी (उपायकुत को छोड़कर)।
    3 उपायुक्त (प्रशा.) सहायक आयुक्तों सहित मुख्यालय के सभी कर्मचारी
    4 आयुक्त (न.वि.स.) मुख्यालय में कार्यरत उपायुक्त एवं उनसे उच्च अधिकारीगण और अग्रिम के सभी मामले एवं वे सभी मामले जिनमें सीपीएफ नियमों में छूट अपेक्षित हैं।.

    ख. निकासी

    निकासी
    1 आंतरिक वित्तीय सलाहकार और मुख्य लेखा अधिकारी अंतिम निकासी/अधिवर्षिता, सेवानिवृत्ति या पदत्याग पर भुगतान
    2 आयुक्त (न.वि.स.) नवोदय विद्यालय समिति के सभी कर्मचारियों के लिए, चाहे सीपीएफ नियमों में छूट देने अपेक्षित है या नहीं।

    11.लेखा/लेखापरीक्षा

    इस निधि के खाते समिति मुख्यालय में बनाए जाएंगे। वहां तैयार वार्षिक प्राप्तियां एवं भुगतान तथा तुलन पत्रक समिति के सामान्य निधि वार्षिक खातों का हिस्सा बनेंगी और समिति के 'लेखा परीक्षकों' द्वारा उनकी लेखापरीक्षा करवाई जाएगी।

    12.संशोधन

    इन नियमों में संशोधन वित्त मंत्रालय, पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग के परामर्श के पश्चात समिति की वित्त समिति की सिफारिश पर तथा समिति की कार्यकारिणी समिति की मंजूरी से किया जा सकता है।

    13.व्याख्या

    इन नियमों की व्याख्या / छूट की शक्ति आयुक्त, नवोदय विद्यालय समिति में निहित होगी, परन्तु नीति परिवर्तन से जुड़ी किसी भी छूट को पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग / वित्त मंत्रालय के परामर्श के पश्चात किया जाएगा।

    डाक विभाग की सुकन्या समृद्धि योजना: नवरात्र में बेटियों के पूजन के साथ अब खाते खुलवाने और पैसे जमा करवाने का भी ट्रेंड

    नवरात्र में कन्या पूजन, भोजन करवाने और उपहार देने के साथ-साथ अब एक नया ट्रेंड और शुरू हो गया है, जिसमें जरूरतमंद परिवारों की कन्याओं के डाक विभाग की सुकन्या समृद्धि योजना में भामाशाहों की ओर से नए खाते खुलवाए जा रहे हैं, उनकी शादी के लिए छोटी-छोटी बचत के साथ पैसे जमा करवाए जा रहे हैं। डाक विभाग भी ये खाते खुलवाने के लिए अभियान छेड़े हुए है।

    डाक विभाग के अफसरों और कर्मचारियों की ओर से भामाशाहों एवं संपन्न लोगों से संपर्क कर खाते खुलवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है कि कन्याओं के खाते खुलवाकर नवरात्रि में पुण्य कमा सकते है। ऐसे में कई भामाशाह आगे आए हैं और कन्याओं के लिए पैसे जमा करवा यथा शक्ति जमा योजना रहे हैं। जिले में 50 हजार खाते सुकन्या समृद्धि योजना में है।

    पीएमजी सहित डाक अधिकारी करवाते है बेटियों के खातों में पैसे जमा : पोस्ट मास्टर जनरल कर्नल सुशील कुमार सहित अन्य डाक अधिकारियों की ओर से ऐसी कन्याओं के खातों में पैसे जमा करवाए जा रहे हैं, जिनकी परिवार की स्थिति ठीक नहीं है। अधिकारी ऐसे परिवारों और कन्याओं की पहचान गुप्त ही रखना चाहते हैं।

    माता-पिता नहीं हैं तो खुलवाए बेटियों के खाते : राजकीय उ.मा.विद्यालय की शिक्षिका मीना शर्मा ने ऐसी दो बेटियों के खाते खुलवाए, जिनके माता-पिता नहीं है। यह अब यथा शक्ति इनके खातों में पैसे जमा करवाती रहती हैं। दो जरूरतमंद कन्याओं के यह और खाते खुलवाएगी। पार्षद ज्ञान सारस्वत का कहना है कि उनके वार्ड में लगे कैंप में भी भामाशाहों ने ऐसे खाते खुलवाए। भामाशाह खुद और बेटियों के नाम सार्वजनिक नहीं करना चाहते।

    लुहार बस्ती की बेटियों के खाते खुलवाए : डाक विभाग के अभिकर्ता अरविंद गर्ग ने लुहार बस्ती की 11 बालिकाओं के खाते खुलवाए थे, ताकि उनका परिवार आगे बचत कर बालिकाओं के भविष्य के लिए पैसा जोड़ सके। गर्ग ने अन्य जगह भी यथा शक्ति जमा योजना खाते खुलवाए।

    यह है सुकन्या समृद्धि योजना : इस योजना में 1 दिन से लेकर 10 साल तक की बालिका का खाता खोला जा सकता है। खाता मात्र 250 रुपए से खोला जा सकता है, इसमें प्रतिवर्ष 250 से डेढ़ लाख रुपए तक जमा करवाए जा सकते हैं। जमा की गई राशि बालिका के शादी होने या 21 साल की उम्र होने पर ब्याज सहित दी जाती है, इस योजना में 7.06 प्रतिशत ब्याज दिया जा रहा है।

    डाक विभाग की सुकन्या समृद्धि योजना में ऐसे मामले भी सामने आते हैं, जिनमें जरूरतमंद परिवारों की बेटियों के लिए भामाशाह पैसे जमा करवाते हैं। नवरात्रि में इस योजना को लेकर हमारा अभियान चल रहा है। -एसआर मुनोत, डाक प्रवर अधीक्षक, अजमेर

    यथा शक्ति जमा योजना

    About sknsmv

    साहित्यिक एवं सांस्कृतिक क्रिया-कलाप

    महाविद्यालय के छात्रों के स्वतन्त्र एवं व्यवस्थित चिंतन, कलात्मक यथा शक्ति जमा योजना अभिरुचि,रचनात्मक प्रवृत्ति यथा लेखन, वाक्-शक्ति के उन्नयन तथा इसी प्रकार के अन्य रचनात्मक गुणों के संविकास के लिए पर्याप्त अवसर एवं सुविधाएँ है | इसके आयोजन एवं क्रियान्वन हेतु महाविद्यालय में साहित्यिक एवं सांस्कृतिक परिषद के तत्तवाधान में समय-समय पर सांस्कृतिक एवं साहित्यिक कार्यक्रमों का प्राविधान है | इच्छुक छात्र परिषद के संयोजक से सम्पर्क कर उनकी अनुमति से तत्सम्बन्धी कार्यक्रमों के आयोजन में अपनी क्षमता का प्रदर्शन कर सकते है | छात्रों की सृजनात्मक प्रतिभा के उन्नयन में महाविद्यालय कि पत्रिका "जिजीविषा" का महत्वपूर्ण योगदान है |

    राष्ट्रीय सेवा योजना (प्रस्तावित)

    भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मन्त्रालय के युवा कार्य विभाग के सौजन्य से महाविद्यालय में इस योजना की एक इकाई (100 छात्र ) स्थापित होगी, जिसका प्रमुख उद्देश्य शिक्षा के साथ राष्ट्र-सेवा है |समय-समय पर राष्ट्रीय सेवा योजना की ओर से शिविर लगाकर वृक्षारोपण, मलिन बस्तियों की सफाई एवं मार्ग निर्माण जैसी सार्वजनिक हित के कार्य किये जाते है | इस योजना में सहभागिता के इच्छुक छात्रों यथा शक्ति जमा योजना को महाविद्यालय में प्रवेश पाने के बाद निर्धारित आवेदन-पत्र भर कर राष्ट्रीय सेवा योजना में जमा करना होगा |इकाई में प्रतिवर्ष छात्रों का चयन साक्षात्कार के आधार प़र एक समिति द्वारा किया जाता है, जिससे केवल स्नातक स्तर के छात्र ही सदस्य (स्वयं सेवक) चुने जाते है | प्रथम एवं द्वितीय वर्ष में 120-120 घंटे सार्वजनिक सेवा कार्य करने वाले छात्रो को दो वर्षो की अविच्छिन्न सदस्यता अवधि पूरा करने पर प्रमाण पत्र दिए जाते है |

    रोवर्स एवं रेन्जर्स

    महाविद्यालय में छात्र/छात्राओं के शिक्षणेत्तर क्रिया-कलापों को संवर्द्धानार्थ रोवर्स एवं रेन्जर्स ( स्काउटिंग ) की इकाई कार्यरत है | जिससे ५० छात्र/छात्राओं की प्रतिभागिता निर्धारित है | इससे प्रवेश के इच्छुक अभ्यर्थी महाविद्यालय में प्रवेश पाने के बाद रोवर्स लीडर से प्रार्थना-पत्र प्राप्त करके साक्षात्कार के प्रवेश प्राप्त कर सकते है |

    पेयजल एवं शौचालय

    महाविद्यालय के परिसर यथा शक्ति जमा योजना में शुद्ध पेयजल की आपूर्ति की व्यवस्था करायी गई है | विद्यालय में छात्र एवं छात्राओं के उपयोग के लिए स्वच्छ शौचालयों की अलग-अलग पर्याप्त व्यवस्था है |

रेटिंग: 4.15
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 831
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *