एक मुद्रा कैरी ट्रेड की मूल बातें

एक खाता खोलना

एक खाता खोलना

वित्त मंत्रालय रुपये में अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर बैंक प्रमुखों के साथ करेगा बैठक

नयी दिल्ली, 29 नवंबर (भाषा) वित्त मंत्रालय ने दूसरे देशों के साथ डॉलर के बजाय रुपये एक खाता खोलना में व्यापार को बढ़ावा देने के उपायों पर चर्चा के लिये बैंकों के मुख्य कार्यपालक अधिकारियों (सीईओ) की बैठक बुलायी है। इसमें निजी क्षेत्र के छह प्रमुख बैंकों के सीईओ शामिल हैं।

सूत्रों के अनुसार, पांच दिसंबर को होने वाली बैठक में विदेश मंत्रालय और वाणिज्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल होंगे। बैठक में इस मामले में अबतक हुई प्रगति की समीक्षा भी की जाएगी।

उसने कहा कि वित्तीय सेवा सचिव विवेक जोशी बैठक एक खाता खोलना की अध्यक्षता करेंगे। बैठक में भारतीय रिजर्व बैंक और भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के प्रतिनिधियों के भी शामिल होने की संभावना है।

आरबीआई ने रुपये में सीमापार व्यापार सौदों के लिये जुलाई में विस्तृत दिशानिर्देश जारी किए थे। रुपये में विदेशी व्यापार को सुगम बनाने के लिये अबतक दो घरेलू बैंकों में नौ विशेष वोस्ट्रो खाते खोले गये हैं।

वोस्ट्रो खाता वह है जो घरेलू बैंक स्थानीय मुद्रा में विदेशी बैंक के लिये खोले जाते हैं। भारत के मामले में यह रुपया है।

आरबीआई के दिशानिर्देश के बाद रूस के सबसे बड़े स्बरबैंक और दूसरे सबसे बड़े वीटीबी बैंक पहले विदेशी बैंक हैं, जिन्हें वोस्ट्रो खाते खोलने की अनुमति मिली है।

एक अन्य रूसी बैंक गजप्रोम ने भी कोलकाता स्थित यूको बैंक के साथ यह खाता खोला है।

विशेष वोस्ट्रो खाता खोलने के कदम से भारत और रूस के बीच व्यापार का रुपये में भुगतान का रास्ता साफ हो गया है। इससे भारतीय मुद्रा में सीमापार व्यापार संभव हुआ है।

Post Office Scheme: बेटियों के लिए सरकार की बड़ी योजना, मिनिमम 250 रुपये करने होंगे डिपॉजिट, लाखों का मिलेगा फायदा

Post Office Savings: सरकार लोगों को आर्थिक मदद देती है तो वहीं लोगों के लिए कई एक खाता खोलना बचत योजनाएं भी चलाई जा रही है. इन बचत योजनाओं में निवेश कर अच्छा रिटर्न एक खाता खोलना भी हासिल किया जा सकता है. वहीं सरकार की ओर से बेटियों के लिए भी बढ़िया निवेश की स्कीम चलाई जा रही है. इस स्कीम का लॉन्ग टर्म में फायदा मिल सकता है.

alt

5

alt

5

alt

5

alt

5

Post Office Scheme: बेटियों के लिए सरकार की बड़ी योजना, मिनिमम 250 रुपये करने होंगे डिपॉजिट, लाखों का मिलेगा फायदा

Sukanya Samriddhi Yojana Calculator: सरकार की ओर से लोगों के कल्याण के लिए कई योजनाएं चलाई जा रही हैं. इन योजनाओं में सरकार लोगों को आर्थिक मदद देती है तो वहीं लोगों के लिए कई बचत योजनाएं भी चलाई जा रही है. इन बचत योजनाओं में निवेश कर अच्छा रिटर्न भी हासिल किया जा सकता है. वहीं सरकार की ओर से बेटियों के लिए भी बढ़िया निवेश की स्कीम चलाई जा रही है. इस स्कीम का लॉन्ग टर्म में फायदा मिल सकता है.

सुकन्या समृद्धि योजना

दरअसल, हम बात कर रहे हैं पोस्ट ऑफिस के जरिए चलाई जा रही सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana) की. यह योजना विशेष तौर पर बेटियों के लिए चलाई जाती है. सुकन्या समृद्धि योजना, पोस्ट ऑफिस के जरिए संचालित की जाती है. कोई भी अपनी बेटी के नाम पर पोस्ट ऑफिस में सुकन्या समृद्धि अकाउंट खोल सकता है. इस निवेश योजना पर 7.6 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है. वहीं इस योजना के जरिए छोटी बचत से भी लाखों रुपये बनाए जा सकते हैं.

Sukanya Samriddhi Yojana Benefits

- अभिभावक के जरिए 10 वर्ष से कम आयु की बालिका के नाम पर खाता खोला जा सकता है.
- भारत में एक बालिका के नाम पर डाकघर या किसी भी बैंक में केवल एक ही खाता खोला जा सकता है.
- यह खाता एक परिवार में अधिकतम दो लड़कियों के लिए खोला जा सकता है. बशर्ते जुड़वां/ट्रिपल बच्चियों के जन्म के मामले में दो से अधिक खाते खोले जा सकते हैं.
- किसी वित्त वर्ष में न्यूनतम 250 रुपये प्रारंभिक जमा के साथ खाता खोला जा सकता है.
- एक वित्त वर्ष में 250 रुपये से लेकर 1.50 लाख रुपये तक की एकमुश्त या किस्तें खाते में जमा की जा सकती है. जमा की जाने वाली राशि 50 रुपये के गुणकों में होनी चाहिए.
- खाता खोलने की तारीख से अधिकतम 15 वर्ष पूरे होने तक इसमें राशि जमा की जा सकती है.
- अगर न्यूनतम 250 रुपये एक वित्तीय वर्ष में एक खाते में जमा नहीं किया जाता है, खाते को डिफॉल्ट खाते में माना जाएगा.
- इस खाते में जमा राशि आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत कटौती के लिए योग्य है.
- ब्याज प्रत्येक वित्तीय वर्ष के अंत में खाते में जमा किया जाएगा.
- अर्जित ब्याज आयकर अधिनियम के तहत कर मुक्त है.
- बालिका के वयस्क होने (यानी 18 वर्ष) तक खाते का संचालन अभिभावक के जरिए किया जाएगा.
- बालिका के 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने या 10वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद खाते से निकासी की जा सकती है.
- पिछले वित्त वर्ष के अंत में उपलब्ध शेष राशि का 50% तक निकासी की जा सकती है.
- निकासी एकमुश्त या किश्तों में की जा सकती है.
- इसके अलावा खाता खोलने की तारीख से 21 साल बाद या 18 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद बालिका के विवाह के समय खाता मैच्योर होता है.
- हालांकि कुछ परिस्थितियों में खाता खोलने के 5 साल बाद समय से पहले बंद भी किया जा सकता है.

जरुरी जानकारी | वित्त मंत्रालय रुपये में अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर बैंक प्रमुखों के साथ करेगा बैठक

Get Latest हिन्दी समाचार, Breaking News on Information at LatestLY हिन्दी. वित्त मंत्रालय ने दूसरे देशों के साथ डॉलर के बजाय रुपये में व्यापार को बढ़ावा देने के उपायों पर चर्चा के लिये बैंकों के मुख्य कार्यपालक अधिकारियों (सीईओ) की बैठक बुलायी है। इसमें निजी क्षेत्र के छह प्रमुख बैंकों के सीईओ शामिल हैं।

जरुरी जानकारी | वित्त मंत्रालय रुपये में अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर बैंक प्रमुखों के साथ करेगा बैठक

नयी दिल्ली, 29 नवंबर वित्त मंत्रालय ने दूसरे देशों के साथ डॉलर के बजाय रुपये में व्यापार को बढ़ावा देने के उपायों पर चर्चा के लिये बैंकों के मुख्य कार्यपालक अधिकारियों (सीईओ) की बैठक बुलायी है। इसमें निजी क्षेत्र के छह प्रमुख बैंकों के सीईओ शामिल हैं।

सूत्रों के अनुसार, पांच दिसंबर को होने वाली बैठक में विदेश मंत्रालय और वाणिज्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल होंगे। बैठक में इस मामले में अबतक हुई प्रगति की समीक्षा भी की जाएगी।

उसने कहा कि वित्तीय सेवा सचिव विवेक जोशी बैठक की अध्यक्षता करेंगे। बैठक में भारतीय रिजर्व बैंक और भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के प्रतिनिधियों के भी शामिल एक खाता खोलना होने की संभावना है।

आरबीआई ने रुपये में सीमापार व्यापार सौदों के लिये जुलाई में विस्तृत दिशानिर्देश जारी किए थे। रुपये में विदेशी व्यापार को सुगम बनाने के लिये अबतक दो घरेलू बैंकों में नौ विशेष वोस्ट्रो खाते खोले गये हैं।

वोस्ट्रो खाता वह है जो घरेलू बैंक स्थानीय मुद्रा में विदेशी बैंक के लिये खोले जाते हैं। भारत के मामले में यह रुपया है।

आरबीआई के दिशानिर्देश के बाद रूस के सबसे बड़े स्बरबैंक और दूसरे सबसे बड़े वीटीबी बैंक पहले विदेशी बैंक हैं, जिन्हें वोस्ट्रो खाते खोलने की अनुमति मिली है।

एक अन्य रूसी बैंक गजप्रोम ने भी कोलकाता स्थित यूको बैंक के साथ यह खाता खोला है।

विशेष वोस्ट्रो खाता खोलने के कदम से भारत और रूस के बीच व्यापार का रुपये में भुगतान का रास्ता साफ हो गया है। इससे भारतीय मुद्रा में सीमापार व्यापार संभव हुआ है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)

वित्त मंत्रालय रुपये में अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर बैंक प्रमुखों के साथ करेगा बैठक

नयी दिल्ली, 29 नवंबर (भाषा) वित्त मंत्रालय ने दूसरे देशों के साथ डॉलर के बजाय रुपये में व्यापार को बढ़ावा देने के उपायों पर चर्चा के लिये बैंकों के एक खाता खोलना मुख्य कार्यपालक अधिकारियों (सीईओ) की बैठक बुलायी है। इसमें निजी क्षेत्र के छह प्रमुख बैंकों के सीईओ शामिल हैं।

सूत्रों के अनुसार, पांच दिसंबर को होने वाली बैठक में विदेश मंत्रालय और वाणिज्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल होंगे। बैठक में इस मामले में अबतक हुई प्रगति की समीक्षा भी की जाएगी।

उसने कहा कि वित्तीय सेवा सचिव विवेक जोशी बैठक की अध्यक्षता करेंगे। बैठक में भारतीय रिजर्व बैंक और भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के प्रतिनिधियों के भी शामिल होने की संभावना है।

आरबीआई ने रुपये में सीमापार व्यापार सौदों के लिये जुलाई में विस्तृत दिशानिर्देश जारी किए थे। रुपये में विदेशी व्यापार को सुगम बनाने के लिये अबतक दो घरेलू बैंकों में नौ विशेष वोस्ट्रो खाते खोले गये एक खाता खोलना हैं।

वोस्ट्रो खाता वह है जो घरेलू बैंक स्थानीय मुद्रा में विदेशी बैंक के लिये खोले जाते हैं। भारत के मामले में यह रुपया है।

आरबीआई के दिशानिर्देश के बाद रूस के सबसे बड़े स्बरबैंक और दूसरे सबसे बड़े वीटीबी बैंक पहले विदेशी बैंक हैं, जिन्हें वोस्ट्रो खाते खोलने की अनुमति मिली है।

एक अन्य रूसी बैंक गजप्रोम ने भी कोलकाता स्थित यूको बैंक के साथ यह खाता खोला है।

विशेष वोस्ट्रो खाता खोलने के कदम से भारत और रूस के बीच व्यापार का रुपये में भुगतान का रास्ता साफ हो गया है। इससे भारतीय मुद्रा में सीमापार व्यापार संभव हुआ है।

(इस खबर को IBC24 टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

रेटिंग: 4.76
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 858
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *