इन्वेस्टिंग

सोने में निवेश कैसे करें

सोने में निवेश कैसे करें
गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ETF) पिछले कुछ साल से निवेश का सुरक्षित विकल्प बन गया है. (reuters)

सोना: बीमा से लेकर निवेश तक

अब, आपके पोर्टफोलियो में सोना क्या भूमिका निभाता है - क्या यह मात्र निवेश का माध्यम है या यह बीमा भी है? सोना आपके पोर्टफोलियो में ऐसा कुछ जोड़ता है जो कोई अन्य असेट नहीं कर सकती। यह एक निवेश के मार्ग के साथ-साथ वित्तीय संकट के समय बीमा के रूप में भी काम कर सकता है। यहाँ बताया गया है, कैसे:

किसी भी प्रकार के बीमा को किसी भी अप्रत्याशित संकट से होने वाले नुकसान को कम करके आपकी रक्षा करने वाला माना जाता है। और आपके वित्तीय पोर्टफोलियो के लिए, सोना ठीक ऐसा ही करता है। स्टॉक और बॉन्ड जैसे प्रमुख असेट क्लास के साथ इसके निम्न सहसंबंध को देखते हुए, आर्थिक संकट के दौरान सोना अच्छा प्रदर्शन करता है।

उदाहरण के लिए, 2020 के दौरान COVID-19 महामारी को ले लें।

महामारी के दौरान सोने की कीमतों में तेजी से उछाल आया, 6 अगस्त 2020 को 10 ग्राम 24k सोने का मूल्य ₹57,950 के उच्च स्तर पर पहुँच गया।

जिन निवेशकों ने सोने में निवेश किया था, उन्होंने पाया कि इससे उनके नुकसान की भरपाई हुई और उन्हें चल-निधि प्राप्त हुई।

मुद्रास्फीति के दौरान भी, जब कीमतें अपने उच्चतम स्तर पर होती हैं, निवेशकों के लिए सोना सुरक्षा जाल की तरह कार्य करता है। इसकी सीमित आपूर्ति और इसके तात्विक मूल्य को देखते हुए, सोने की माँग कभी कम नहीं होती और ना ही इसकी कीमत।

इतना ही नहीं; निवेशक सोने का इस्तेमाल मुद्रा के मूल्यह्रास सक बचाव के रूप में भी करते हैं। जब डॉलर कमजोर होता है तो सोना मँहगा हो जाता है। इसलिए, जब कागजी मुद्रा खतरे में महसूस होती है, तो लोगों को सोना स्वर्ग जैसा महसूस होता है।

ऐतिहासिक रूप से, जब मुद्राओं का विमुद्रीकरण किया जाता है, या उनकी क्रय शक्ति में तेजी से गिरावट आती है, या जब शेयर बाजार में गिरावट आती है, तो सोना निवेशकों के पोर्टफोलियो में बचाव का माध्यम बनता है। इसलिए, सोना आपके पोर्टफोलियो के लिए एक प्रत्यक्ष अभिवृद्धि सोने में निवेश कैसे करें बनाता है, क्योंकि यह एक लाभप्रद विविधता के रूप में कार्य करता है।

हालाँकि, बीमा के रूप में सोने की प्रतिष्ठा भली-भाँति स्थापित है, सोने ने खुद को एक आकर्षक निवेश विकल्प साबित किया है जो मजबूत आर्थिक काल में भी लाभ देता है।

उदाहरण के लिए, 2001 के बाद से वैश्विक निवेश की माँग में प्रति वर्ष औसतन 15% की वृद्धि हुई है और इसी अवधि में इसकी कीमत लगभग ग्यारह गुना बढ़ी है।

हम देख सकते हैं कि अतीत में सोने ने कुछ सबसे उपयोगी निवेश विकल्पों से बेहतर प्रदर्शन किया है।

लंबी अवधि में सोने के मूल्य को आर्थिक विकास का समर्थन प्राप्त होता है। यह न केवल मुद्रास्फीति के खिलाफ बचाव के रूप में कार्य करता है, बल्कि लंबी अवधि में अद्वितीय लाभ भी प्रदान करता है। अन्य असेट क्लास के विपरीत, सोने का मूल्य भौगोलिक सीमाओं और संप्रभु मुद्राओं से परे है। यह आसानी से उपलब्ध और पारदर्शी है, और फिर भी किसी भी अन्य असेट की तुलना में बेहतर चल-निधि प्रदान करता है।

इन दिनों सोने की खरीद-बिक्री के विभिन्न स्वरूप मौजूद हैं। भौतिक रूप में सोने के अलावा, गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) और डिजिटल गोल्ड आधुनिक भारतीय को निवेश के नए तरीके प्रदान कर रहे हैं। ज्वैलरी और सिक्कों से अलग, इनमें कोई मेकिंग चार्ज और भंडारण संबंधी परेशानी नहीं होती है और ये उन लोगों के लिए छोटे मूल्यवर्ग में आसानी से उपलब्ध हैं जो अभी सोने के निवेश में शुरुआत कर रहे हैं।

चाहे लोग पारंपरिक रूप से सोना खरीदें या नए तरीकों में से किसी एक का इस्तेमाल करें, यह भारतीयों के लिए अनूठा और सबसे पसंदीदा निवेश विकल्प बना सोने में निवेश कैसे करें रहेगा। इसलिए, चाहे आप अपने निवेश पोर्टफोलियो में सोने को बीमा के रूप में रखें या निवेश के रूप में, सोना निस्संदेह इसमें एक लाभप्रद अभिवृद्धि है।

Gold: क्या आपने खरीदा है गोल्ड, सोने में निवेश का बेहतरीन समय, बता रहे हैं एक्सपर्ट सुमित बगड़िया

सुमित बगड़िया ने कहा कि गोल्ड और सिल्वर के भाव में गिरावट है. लेकिन आने वाले समय में इसमें तेजी दिखाई देगी. दोनों के रेट नई ऊंचाइयों को छुएंगे. सुमित बगड़िया ने कहा जो निवेश के इच्छुक हैं वो गोल्ड और सिल्वर में निवेश करें. और जो पहले से ही खरीद कर रखे हैं, वो अभी होल्ड करें.

Gold: सोने में निवेश का बेहतरीन समय

Gold Investment: दुनिया भर में एक बार फिर मंदी की आहट सुनाई दे रही है. देश-दुनिया के शेयर बाजार में गिरावट का दौर चल रहा है. पूरे बाजार में बिकवाली हावी है. स्टॉक के गिरते रेट के कारण निवेशक भी असमंजस में हैं कि कहां निवेश करना बेहतर होगा. इसी कड़ी में जाने माने एक्सपर्ट और ब्रोकरेज हाउस चॉइस ब्रोकिंग के कार्यकारी निदेशक सुमित बगाड़िया ने सोने में निवेश करने की सलाह दी है. सुमित बगाड़िया का कहना है कि गोल्ड में निवेश आने वाले समय में बेहतर सोने में निवेश कैसे करें रिटर्न दे सकता है. इसके अलावा सिल्वर में भी निवेश करना मुनाफे का सौदा होगा.

गोल्ड और सिल्वर में करें निवेश: गोल्ड और सिल्वर में निवेश करना अभी के समय में बहुत अच्छा रहेगा. सुमित बगड़िया ने कहा कि गोल्ड और सिल्वर के भाव में गिरावट है. लेकिन आने वाले समय में इसमें तेजी दिखाई देगी. दोनों के रेट नई ऊंचाइयों को छुएंगे. सुमित बगड़िया ने कहा जो निवेश के इच्छुक हैं वो गोल्ड और सिल्वर में निवेश करें. और जो पहले से ही खरीद कर रखे हैं, वो अभी होल्ड करें. आने वाले समय सोने में निवेश कैसे करें में इसमें अच्छा रिटर्न मिलेगा. गोल्ड 60 हजार तक के लेवल पर पहुंच सकता है.

गोल्ड को करें होल्ड: एक्सपर्ट सुमित बगड़िया ने कहा है कि जो निवेशक गोल्ड पर निवेश कर चुके हैं वो अभी अपने गोल्ड को होल्ड करें. और जो निवेशक निवेश करने का प्लान बना रहे हैं वो गोल्ड की खरीद कर सोने में निवेश कैसे करें लें. आने वाले समय में गोल्ड अच्छे रिटर्न देगा. उन्होंने कहा कि बाजार सुधरते ही गोल्ड नई ऊंचाइयों को छुएगा. उन्होंने कहा कि 51 हजार 52 हजार के लेबल को जैसे ही गोल्ड तोड़ेगा सीधे 55 हजार और लांग टाइम में 60 हजार के लेबल पर पहुंच जाएगा.

ऐसे कर सकते हैं निवेश: अगर आप सोना खरीदने का प्लान बना रहे हैं तो यह आपके लिए बेहतर मौका साबित हो सकता है. एक्सपर्ट सुमित बगड़िया के मुताबिक अर्थव्यवस्था में जब रिकवरी आएगी तो सोना नई ऊंचाइयों को छुएगा. बगाड़िया का अनुमान है कि सोना 60 हजार के स्तर को भी पार कर जाएगा. ऐसे में सोना खरीदना मुनाफे का सौदा साबित हो सकता है. सोने में निवेश करना चाहते हैं तो पेपर गोल्ड, गोल्ड ईटीएफ, सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड, गोल्ड म्यूचुअल फंड और डिजिटल गोल्ड पर निवेश कर सकते हैं. इसके अलावा आप सर्राफा बाजार से सोने के गहने, सोने के सिक्के या फिर सोने के बिस्किट खरीद सकते हैं.

Gold ETF: पेपर गोल्ड में निवेश का बेस्ट तरीका, क्या हैं फायदे और कैसे खरीदें यूनिट

Gold ETF 2022 Benefits: पेपर गोल्ड में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका गोल्ड ईटीएफ है, जो कॉस्ट-इफेक्टिव होता है. यह गोल्ड में इन्वेस्टमेंट के साथ स्टॉक में इन्वेस्टमेंट की फ्लेक्सिबिलिटी देता है.

Gold ETF: पेपर गोल्ड में निवेश का बेस्ट तरीका, क्या हैं फायदे और कैसे खरीदें यूनिट

गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ETF) पिछले कुछ साल से निवेश का सुरक्षित विकल्प बन गया है. (reuters)

Gold ETF 2022: गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ETF) पिछले कुछ साल से निवेश का सुरक्षित विकल्प बन गया है. कोरोना वायरस महामारी के दौरान जब सोना सेफ हैवन के रूप में और पॉपुलर हुआ, उस दौरान गोल्ड ईटीएफ को लेकर निवेशकों का रिस्पांस जबरदस्त रहा. यह एक ओपन एंडेड म्यूचुअल फंड होता है, जो सोने की गिरते चढ़ते भावों पर आधारित होता है.
पेपर गोल्ड में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका गोल्ड ईटीएफ है, जो बहुत ज्यादा कॉस्ट-इफेक्टिव होता है. यह गोल्ड में इन्वेस्टमेंट के साथ स्टॉक में इन्वेस्टमेंट की फ्लेक्सिबिलिटी देता है. गोल्ड ईटीएफ की खरीद और बिक्री शेयर की ही तरह बीएसई और एनएसई पर की जा सकती है. इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में होने की वजह से गोल्ड ETF में प्योरिटी को लेकर कोई दिक्कत नहीं होती. हालांकि रेट हाइक के चलते जुलाई में निवेयाकों ने इसमें बिकवाली की है, फिर भी यह बेहतर विकल्प माना जाता है.

गोल्ड ईटीएफ के फायदे

शेयर की तरह गोल्ड ईटीएफ यूनिट्स खरीद सकते हैं. इसमें फिजिकल गोल्ड के मुकाबले परचेजिंग चार्ज कम होता है. जबकि 100 फीसदी शुद्धता की गारंटी मिलती है.
इसमें फिजिकल गोल्ड खरीदने और उसके रख रखाव का झंझट नहीं होता है. लंबी अवधि में निवेश से अच्छा रिटर्न भी मिलता है.
इसमें SIP के जरिए निवेश की सुविधा है. शेयर बाजार में निवेश के मुकाबले गोल्ड ETF में निवेश कम उतार चढ़ाव वाला होता है.
इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में होने की वजह से गोल्ड ETF में प्योरिटी को लेकर कोई दिक्कत नहीं होती.
गोल्ड ETF को डीमैट अकाउंट के जरिए ऑनलाइन खरीद सकते हैं. हाई लिक्विडिटी यानी आप जब चाहें इसे खरीद और बेच सकते हैं. गोल्ड ETF की शुरुआत आप 1 ग्राम यानि 1 गोल्ड ETF से भी कर सकते हैं.
टैक्स के सोने में निवेश कैसे करें मामले में फिजिकल गोल्ड से सस्ता है. गोल्ड ETF पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस चुकाना होता है. गोल्ड ETF को लोन लेने के लिए सिक्योरिटी के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं.
फिजिकल सोने पर आपको मेकिंग चार्ज चुकाना होता है. लेकिन गोल्ड ETF में ऐसा नहीं होता है.

गोल्ड ईटीएफ में कैसे करें निवेश?

निवेश के लिए कम से कम एक यूनिट खरीदना जरूरी. हर यूनिट 1 ग्राम की होती है. गोल्ड ईटीएफ की खरीददारी शेयरों की ही तरह होती है. मौजूदा ट्रेडिंग खाते से ही गोल्ड ईटीएफ खरीद सकते हैं. गोल्ड ईटीएफ की यूनिट डीमैट खाते में जमा होती है. ट्रेडिंग खाते के जरिए ही गोल्ड ईटीएफ को बेचा जाता है.

Gold, Silver, Crude: सोना, चांदी और क्रूड की कीमतों में गिरावट, जारी रहेगी हलचल, मुनाफे के लिए ऐसे बनाएं स्‍ट्रैटेजी

Gold and Silver Price Today: सोना हुआ महंगा, चांदी 1,022 रुपये मजबूत, खरीदारी से पहले चेक करें लेटेस्ट रेट

रेट हाइक के चलते गोल्ड ईटीएफ में बिकवाली

गोल्ड ईटीएफ से जुलाई में 457 करोड़ रुपये की निकासी हुई है. निवेशकों ने अपना पैसा एसेट क्लास में लगाया है, जिसके कारण यह निकासी हुई है. एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है. आंकड़ों के अनुसार, जून, 2022 में ईटीएफ में 135 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश आया था. मॉर्निंगस्टार इंडिया में सीनिसर एनालिस्ट कविता कृष्णन ने कहा कि बढ़ती ब्याज दरों के कारण पीली धातु की कीमतों में गिरावट के कारण गोल्ड ईटीएफ से निवेशकों ने निकासी की है.

उन्होंने कहा कि रुपये में गिरावट ने भी सोने की डिमांड और सप्लाई को प्रभावित किया है. यह ट्रेंड ग्लोबल लेवल पर भी देखी गई है, जिसमें सोने की कम कीमतों के कारण गोल्ड ईटीएफ में निवेशकों ने निकासी की है. इस निकासी के साथ गोल्ड ईटीएफ में एसेट अंडर मैनेजमेंट घटकर 20,038 करोड़ रुपये रह गया है. एसेट अंडर मैनेजमेंट जून में 20,249 करोड़ रुपये था. इस कटेगिरी में जुलाई के दौरान फोलियो की संख्या 37,500 बढ़कर 46.43 लाख पर पहुंच गई है.

मी-गोल्ड में निवेश करें

अपने मूल्य और समृद्ध इतिहास के लिए दुनिया भर में सोने का सम्मान किया जाता है। जिन कारणों से लोग सोने में निवेश करते हैं, वे भी अलग-अलग होते हैं, इसे एक संपत्ति के रूप में देखा जा सकता है जो धन बनाने के साथ-साथ वित्तीय बाजार के जोखिमों और बढ़ती मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने और रोकने में मदद करता है। भारत में सबसे पसंदीदा संपत्ति वर्ग में से एक होने के वजह से, सोने में निवेश को सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली संपत्ति में से एक माना जाता है और आने वाले भविष्य में अच्छा प्रतिलाभ प्रदान करता है।

रेटिंग: 4.70
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 123
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *